पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

एजुकेशन एवं रिसर्च विभाग:मार्च महीने के बाद चेकअप नहीं करवा पा रहे लोगों को मिलेगी राहत, जीएनडीएच में कल से खुलेगी सात महीने से बंद ओपीडी, इलेक्टिव सर्जरी भी फिर शुरू

अमृतसर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

कोरोना महामारी के चलते मेडिकल एजुकेशन एवं रिसर्च विभाग के अधीन चलने वाले सूबे के सभी मेडिकल कॉलेज, अस्पताल, डेंटल कॉलेज और टीबी अस्पतालों की बंद पड़ी ओपीडी और इलेक्टिव सर्जरी को बहाल करने के लिए निर्देश जारी कर दिए गए हैं। यहां अमृतसर में सरकारी मेडिकल कॉलेज, गुरु नानक देव अस्पताल, डेंटल कॉलेज, ईएनटी अस्पताल और टीबी अस्पताल में उनको सोमवार से सुचारू कर दिया जाएगा। बताते चलें कि कोरोना महामारी के बढ़ने के जहां स्टाफ पर वर्क लोड बढ़ गया था, वहीं दूसरे साधारण मरीजों को ऐसे दौर में अस्पताल बुलाना खतरे से खाली नहीं था।

इसके चलते सरकार और विभाग ने मार्च महीने में ओपीडी बंद कर दी थी। वहीं इलेक्टिव सर्जरी को बंद 11 अगस्त को बंद किया गया था। अब ओपीडी को सात महीने और इलेक्टिव सर्जरी को दो महीने के बाद शुरू किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह की तरफ से विभागीय अधिकारियों के साथ हुई बैठक के बाद उक्त फरमान शनिवार को जारी किया गया है। गुरु नानक देव अस्पताल के मेडिकल सुपरिंटेंडेंट डॉ. जेपी अत्री ने सरकारी आदेशों बारे बताया कि उस पर सोमवार से पालन होगा। ओपीडी खोलने के साथ इलेक्टिव सर्जरी का काम भी शुरू कर दिया जाएगा। ठीक हो चुके कोरोना मरीजों के लिए कोविड केयर सेंटर भी बनाया जाएगा।

रोजाना 1 हजार लोगों को चेकअप होता था

डॉ. अत्री ने बताया कि अस्पताल में कोरोना काल से पहले रोजाना 1000 से 1200 की ओपीडी थी और 50 से 60 के करीब इलेक्टिव सर्जरी होती रही हैं। इलेक्टिव सर्जरी में पित्ते की पथरी, जोड़ों को बदलना, आंख का ऑपरेशन, हार्निया का ऑपरेशन, दांत व कान आदि की माइनर ऑपरेशन शामिल हैं। उन्होंने बताया कि ठीक हो चुके कोरोना मरीजों के लिए मल्टीस्पेशियलिटी पोस्ट कोविड केयर क्लीनिक और स्पेशल ओपीडी भी शुरू होगी। यह सेवाएं मेडिसिन, चेस्ट और साइकेट्री माहिर देंगे।

कोरोना के 33 नए मरीज, एक ही मौत, सावधानी बरतें! दूसरी लहर का खतरा

अक्टूबर के महीने में जहां कोरोना महामारी हारती नजर आ रही है, वहीं आने वाले दिनों में इसकी दूसरी लहर आने की भी आशंका है। ऐसे में मौसम की तब्दीली, प्रदूषण और इन सबके बीच बरती जाने वाली लापरवाही घातक साबित हो सकती है। इसलिए सावधानी जरूरी है। सेहत विभाग के मुताबिक शनिवार को जिले में 33 नए मरीज आए हैं, जबकि 81 ठीक होकर घरों को लौटे हैं। इस दौरान तरसेम सिंह निवासी (65) निवासी धरदेयो, का जीएनडीएच में मौत हो गई। वह हार्ट की समस्या से जूझ रहे थे।

420 एक्टिव मरीज
अक्टूबर में 61 लोगों की मौत हुई है। 1418 नए मरीज आए हैं, जबकि 2281 ठीक होकर घरों को लौटे हैं। 1 अक्टूबर को जिले में 1344 एक्टिव मरीज थे, जो अब सिर्फ 420 रह गए हैं।

अब तक 10550 ठीक जिले में कोरोना से अब तक
कुल 429 की मौतें हो चुकी हैं। इस दौरान जिले में कुल पॉजीटिव 11399 मरीज आ चुके हैं और इसमें से 10550 ठीक हो चुके हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- परिस्थितियां आपके पक्ष में है। अधिकतर काम मन मुताबिक तरीके से संपन्न होते जाएंगे। किसी प्रिय मित्र से मुलाकात खुशी व ताजगी प्रदान करेगी। पारिवारिक सुख सुविधा संबंधी वस्तुओं के लिए शॉपिंग में ...

और पढ़ें