डिंपा ने बेटे के लिए मांगी टिकट नहीं मिली:अब चल पड़े कांग्रेस के उलट, घर से किया ऐलान- भाई खडूर साहिब से लड़ेंगे चुनाव

अमृतसरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
सांसद जसबीर सिंह डिंपा। - Dainik Bhaskar
सांसद जसबीर सिंह डिंपा।

राहुल गांधी के पंजाब दौरे में ना पहुंच सांसद जसबीर सिंह डिंपा ने अपने सोशल एकाउंट पर माफी मांग नाराजगी को कुछ समय के लिए छिपा लिया था, लेकिन अब उनकी नाराजगी साफ हो गई है। डिंपा ने अपने घर में समर्थकों के सामने अपने भाई हरपिंदर सिंह राजन को मैदान में उतारने का ऐलान कर दिया है।

डिंपा इस समय खडूर साहिब हलके से सांसद हैं। डिंपा ने विधानसभा चुनावों में अपने बेटे उपदेश गिल के लिए टिकट मांगा था। उपदेश काफी लंबे समय से खडूर साहिब में अपनी पकड़ बना रहे थे। वर्करों से भी मिलते थे और लोगों के बीच भी जा रहे थे। पिता के सांसद होने के चलते वोटर उनके साथ जुड़ भी गए थे। अब जब डिंपा ने उनके लिए टिकट मांगा तो कांग्रेस ने इंकार कर दिया। डिंपा की नाराजगी तभी से बनी हुई थी। पूरे चुनाव प्रचार के दौरान वह तरनतारन व अमृतसर में नदारद ही रहे।

कांग्रेस ने सिक्की को उतारा मैदान में

कांग्रेस ने एक परिवार एक टिकट के तहत ही डिंपा को टिकट देने से इंकार कर दिया। इसके बाद पार्टी ने खडूर साहिब से सिक्की को टिकट दे दिया। डिंपा का ब्यास व आसपास के हलकों में काफी मजबूत आधार है। डिंपा के पिता संत सिंह विधायक रहते हुए 1986 में आतंकी हमले में मारे गए थे। डिंपा पर भी कई बार हमले हुए। दो बार डिंपा सरपंच बने और उसके बाद 2002 में विधायक चुने गए। 2012 में अमृतसर साउथ से चुनाव मैदान में उतरे, लेकिन हार गए। लेकिन 2019 में वह खडूर साहिब हलके से ही सांसद बने।