वडाला भिट्‌टेवड स्कूल में पहुंचे CM चन्नी:स्टूडेंट्स से मिलाया हाथ और खिंचवाईं तस्वीरें, सभी से एक सवाल - जाणदे हो मैं कौण हां...?

अमृतसरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
भिट्‌टेवड स्कूल में बच्चों की कापियां देखते CM चन्नी। - Dainik Bhaskar
भिट्‌टेवड स्कूल में बच्चों की कापियां देखते CM चन्नी।

पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह मंगलवार सुबह बॉर्डर एरिया में ही दौरे पर हैं। सुबह 10 बजे वह DC गुरप्रीत सिंह खेहरा और पुलिस कमिश्नर डॉ. सुखचैन सिंह गिल को साथ लेकर सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल वडाला भिट्‌टेवड पहुंचे।

उन्होंने जाते ही स्कूल का मुख्य गेट बंद करवाया और स्टाफ और स्टूडेंट्स के साथ मिले। गौरतलब है कि सोमवार रात भी वह अचानक ही सरहदी गांव खुआली पहुंच गए थे और किसानों से मिले थे।

स्टूडेंट्स व बच्चों के साथ CM चरणजीत सिंह चन्नी।
स्टूडेंट्स व बच्चों के साथ CM चरणजीत सिंह चन्नी।

CM चन्नी ने सुबह अचानक ही अपना काफिला रामतीर्थ रोड पर स्थित गांव भिट्‌टेवड की तरफ घुमा लिया। स्कूल में पहुंचते ही सबसे पहले मेन गेट बंद करवाया। इसके बाद स्कूल प्रिंसिपल नवदीप कौर को लेकर स्कूल का राउंड किया। कक्षाओं में जाकर बच्चे से मिले और उनसे पहला सवाल पूछा- जाणदे हो, मैं कौण हां...? स्टूडेंट्स के साथ हाथ मिलाया। इसके बाद सभी से पूछा कि स्टाफ अच्छे से पढ़ाता है ना, कोई अध्यापक छुटि्टयां तो नहीं करता। इसके बाद वह सीधा प्रिंसिपल ऑफिस पहुंचे और हाजिरी रजिस्टर उठाकर स्टाफ को बुला लिया। CM चन्नी के सहयोगियों ने पूरे स्टाफ की हाजिरी लगाई। दो अध्यापक स्कूल में नहीं थे, इनमें से एक की इलेक्शन ड्यूटी थी तो दूसरे को ऑफिस काम से भेजा गया था। इसके बाद CM चन्नी ने स्टाफ व स्टूडेंट्स के साथ तस्वीर भी करवाई।

बच्चों के साथ हाथ मिलाते हुए CM चन्नी।
बच्चों के साथ हाथ मिलाते हुए CM चन्नी।

मिड-डे मील की जांच की और रसोई को देखा

इसके बाद CM चन्नी ने बच्चों के मिड-डे मील को देखने की इच्छा जाहिर की। इसके बाद वह प्रिंसिपल के साथ रसोई देखने चले गए। बनता हुआ खाना और रसोई की साफ सफाई को देखा। उन्होंने प्रिंसिपल का हौसला बढ़ाया और धन्यवाद किया कि वह अच्छे से स्कूल को संभाल रही हैं।

बन रे मिड-डे मील की जांच करते हुए CM चन्नी।
बन रे मिड-डे मील की जांच करते हुए CM चन्नी।

पुरानी ईंटें देख खिंचते चले गए CM

सरकारी स्कूल वडाला भिट्‌टेवड एक बावड़ी के किनारे पर है। कहा जाता है कि यह बाउली माता सीता के समय की है। लेकिन अनदेखी के कारण बंद हो चुकी थी। स्कूल स्टाफ ने अपने खर्चे पर इसे साफ करवाने का काम शुरु करवाया। वहां पड़ी पुरानी ईंटों को देख CM चन्नी बावड़ी की तरफ खींचे चले गए। बावड़ी और उनमें लगीं पुरानी नानक शाही ईंटों को देख वह काफी खुश हुए। डीसी गुरप्रीत खेहरा ने कहा कि वह इस बावड़ी की एक बार जांच करवाएंगे, अगर हो सका तो इसे संभालने का प्रयास किया जाएगा।

स्कूल में बावड़ी को देखते हुए CM चन्नी।
स्कूल में बावड़ी को देखते हुए CM चन्नी।
खबरें और भी हैं...