73वें गणतंत्र दिवस पर दोस्ती का संदेश:वाघा सीमा पर खुले फासलों के दरवाजे, BSF और पाक रेंजर्स ने एक्सचेंज की मिठाई, शुभकामनाएं दी

अमृतसर8 महीने पहले
वाघा-अटारी सीमा पर मौजदू BSF और पाक रेंजर्स मिठाइयों का आदान-प्रदान करते हुए।

73वें गणतंत्र दिवस पर भारत-पाक सीमा के दरवाजे दोपहर के समय दोस्ती का संदेश देने के लिए खोले गए। पाकिस्तान रेंजर्स और सीमा सुरक्षा बल (BSF) के जवानों ने अटारी-वाघा सीमा पर मिठाइयों का आदान-प्रदान किया। इस मौके पर बीएसएफ और पाक रेंजर्स के कई अधिकारी व जवान मौजूद थे। उल्लेखनीय है कि बीएसएफ और पाक रेंजर्स में विभिन्‍न अवसरों पर एक-दूसरे को मिठाई देने की परंपरा है।

दोनों देशों के जवान एक दूसरे के साथ तस्वीर लेते हुए।
दोनों देशों के जवान एक दूसरे के साथ तस्वीर लेते हुए।

सिर्फ वाघा सीमा ही नहीं, देश के अन्य बॉर्डर चैक प्वाइंट्स पर भी मिठाइयों का आदान प्रदान किया गया। भारत और पाकिस्तान की सेनाओं के बीच एक-दूसरे के त्योहार पर मिठाई बांटने की परंपरा आजादी के बाद से ही बनी हुई है। हालांकि इस परंपरा पर भी दोनों देशों के बीच होने वाले तनाव का असर पड़ता रहा है।

पुलवामा में फरवरी 2019 में CISF के काफिले पर आत्मघाती हमले के बाद से यह परंपरा बंद हो गई थी। 3 साल तक दोनों देशों ने आपस में मिठाई नहीं बांटी थी। लेकिन बीते साल दोनों देशों के बीच तनाव कुछ कम हुआ तो 15 अगस्त 2021 को इस परंपरा को दोबारा शुरू किया गया।

दोनों देशों ने दी शुभकामनाएं

इस दौरान भारत की तरफ से कमांडेंट जसबीर ने परंपरा को अदा किया। पाक रेंजर्स ने खुशी-खुशी भारत की तरफ से दी गई मिठाई को स्वीकार किया। इसके बाद उन्होंने BSF को मिठाई का डिब्बा दिया और शुभकामनाएं दी, ताकि दोनों देशों के बीच आपसी प्यार बना रहे।

खबरें और भी हैं...