अमृतसर के स्कूलों में लौटी रौनक:तापमान चेक करने के बाद और अभिभावकों के सहमति पत्र के साथ विद्यार्थियों को अंदर बुलाया गया, कई व्यवस्था देखने आए थे

अमृतसर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
स्कूल में एंट्री देने से पहले थर्मल स्क्रीनिंग करते स्टाफ सदस्य। - Dainik Bhaskar
स्कूल में एंट्री देने से पहले थर्मल स्क्रीनिंग करते स्टाफ सदस्य।

कोरोना की दूसरी लहर की शुरुआत के साथ बंद हुए अमृतसर के स्कूल 4 माह बाद सोमवार को दोबारा खुल गए। पहले दिन स्कूलों में विद्यार्थियों की गिनती तो कम रही, लेकिन सोशल डिस्टेंसिंग, थर्मल स्क्रीनिंग का पूरा ख्याल रखा गया।

कुछ स्टूडें‌ट्स ऐसे भी थे, जो मात्र इंतजाम देखने पहुंचे और मंगलवार आने का वायदा करते हुए वापस चले गए। सरकारी स्कूलों में सोमवार व मंगलवार पेरेंट्स टीचर्स मीटिंग होने के कारण स्टूडेंट‌्स को बिना सहमति के आने दिया गया, लेकिन स्पष्ट निर्देश दे दिए गए कि मंगलवार से बिना कन्सेंट स्कूल में आने नहीं दिया जाएगा।

318 स्कूलों के दरवाजे बच्चों के लिए खुले

इस समय शहर में हाई और सीनियर सेकेंडरी स्कूलों की संख्या 318 के करीब है। जिनमें से 110 गवर्नमेंट हाई स्कूल और 117 सीनियर सेकेंडरी स्कूल हैं। इनमें आईसीएसई स्कूलों की संख्या 16 हैं, जिनमें से 10 के करीब स्कूल 12वीं तक के हैं। सीबीएसई स्कूलों की संख्या 75 के करीब है, जिनमें से 62 के करीब स्कूल 12वीं तक हैं। फिलहाल 80 प्रतिशत स्कूलाें ने ऑफलाइन कक्षाओं को शुरु कर दिया है। अधिकतर अगले माह की शुरुआत में बच्चों को बुलाना शुरू करेंगे।

कक्षा में बच्चों की गिनती 10 प्रतिशत तक रही।
कक्षा में बच्चों की गिनती 10 प्रतिशत तक रही।

10 प्रतिशत रही अधिकतर स्कूलों में गिनती

सरकारी और प्राइवेट स्कूलों की बात करें तो कहीं गिनती बहुत ही कम थी तो कहीं 50 प्रतिशत तक स्टूडेंट्स स्कूल पहुंचे। भवंस एसएल स्कूल की बात करें तो वहो 210 में से 135 के करीब स्टूडेंट्स पहुंचे। वहीं डीएवी इंटरनेशनल में 90 के करीब स्टूडेंटस हाजिर हुए। बारिश और पहला दिन हाेने के कारण सरकारी स्कूलों में गिनती 10 प्रतिशत के करीब ही रही।

पहले दिन पेरेंट्स मीटिंग

पहले दिन सरकारी स्कूलों में कक्षाओं के साथ पेरेंट्स मीटिंग रही। शिक्षा विभाग की तरफ से सोमवार व मंगलवार को पेरेंट्स मीटिंग बुलाई गई। ताकि बच्चों को उनका स्टडी रिकार्ड दिया जा सके और सहमति पत्र पर उनके हस्ताक्षर भी लिए जा सकें।

सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल माल रोड में टीचर्स ऑफ लाइन व ऑन लाइन पढ़ाते हुए।
सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल माल रोड में टीचर्स ऑफ लाइन व ऑन लाइन पढ़ाते हुए।

ऑनलाइन और ऑफलाइन परीक्षा एक साथ

स्कूलों में ऑन लाइन व ऑफ लाइन परीक्षाएं एक साथ हुई। इस दौरान टीचर्स ने स्कूल में कक्षा के दौरान मोबाइल ऑन रखे और गूगल मीट व जूम क्लास में खुद को लॉग इन रखा। कक्षा में जो-जो पढ़ाया गया, वे बच्चे घर में बैठ भी देखते रहे।

एक क्लास में 20 से अधिक बच्चे नहीं

स्कूलों में नियमों अनुसार एक कक्षा में 20 से अधिक स्टूडेंट्स को नहीं बैठाया गया। वहीं एक बैंच पर एक ही स्टूडेंट रहा। जिन कक्षाओं में अधिक बच्चे थे, उन्हें दो या अधिक सैक्शन में बांट दिया गया। वहीं स्कूलों ने दसवीं और 11वीं-12वीं के बच्चों की टाइमिंग अलग रहे। दसवीं के स्टूडेंट्स जहां 8.30 बजे पहुंचे, वहीं 11-12वीं के स्टूडेंट्स 9 बजे स्कूल बुलाए गए। इसी तरह स्टूडेंट्स को दोपहर 1 व 1.30 बजे छुट्‌टी भी हुई।

खबरें और भी हैं...