प्रचार / एसजीपीसी अब ऑनलाइन करेगी धर्म का प्रचार

X

  • पावन स्वरूपाें के मामले की जांच के लिए प्रधान लौंगोवाल ने बनाई सब कमेटी
  • लौंगोवाल ने बाबा बकाला साहिब में जोड़ाघर-बेसमेंट का नींव पत्थर रखा

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 05:38 AM IST

अमृतसर. पावन स्वरूपाें के मामले की जांच के लिए शिराेमणि कमेटी प्रधान गाेबिंद सिंह लाैंगाेवाल ने सब कमेटी का गठन किया है। धर्म-प्रचार कमेटी की मीटिंग के दाैरान साेशल मीडिया के माध्यम से धर्म का प्रचार किए जाने का फैसला लिया गया।

 
पब्लिकेशन विभाग से गुरु ग्रंथ साहिब के पावन स्वरूपों के कम हाेने के मामले की जांच के लिए बनाई सब कमेटी में दरबार साहिब के ग्रंथी ज्ञानी मान सिंह, कमेटी के महासचिव हरजिंदर सिंह धामी, अंतरिम कमेटी मेंबर सुरजीत सिंह कंग, जगसीर सिंह मांगेअाणा, शिराेमणि कमेटी मेंबर गुरतेज सिंह ढडे, सवरन सिंह कुलार अाैर उपसचिव सिमरजीत सिंह काे शामिल किया है।

एसपीजीसी के लाैंगाेवाल ने कहा कि मामले की गंभीरता से जांच कर दाेषी पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। सब कमेटी की जांच रिपाेर्ट जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह काे भेजी जाएगी। मीटिंग में इंटरनेट के माध्यम से अाॅनलाइन वेिबनार से बच्चाें के गुरमति समागम कराए जाने का फैसला लिया गया।  

मीटिंग के दाैरान धर्म प्रचार कमेटी की ओर से चलाए जा रहे धार्मिक शिक्षा संस्थानाें में विद्यार्थियाें के दाखिले के लिए दाे साल तक छूट दी गई है। धार्मिक संस्थाअाें में रागी, प्रचारक, तबला वादक, ग्रंथी अादि कोर्सों के लिए अब सिख विद्यार्थी 22 साल तक दाखिला ले सकेंगे। इससे पहले उम्र की यह हद 20 साल थी।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना