मूसेवाला का गीत ‘VAAR’ रिलीज:20 मिनट में 2.84 लाख लाइक, 10.94 लाख व्यूज, कत्ल के बाद दूसरा गाना

अमृतसर3 महीने पहले

पंजाबी सिंगर सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद उनका दूसरा गाना गुरु नानक देव जी के प्रकाश पर्व पर आज रिलीज हो गया। 10:02 बजे सिद्धू मूसेवाला के यू-ट्यूब चैनल पर इसे रिलीज किया जाएगा। रिलीज से 1 मिनट पहले तक गीत के लिंक को 1.96 लाख लाइक और 1.69 व्यूज मिल चुके थे, लेकिन रिलीज के 20 मिनट में 10.94 लाख लोगों ने इसे सुन लिया।

सिद्धू मूसेवाला।
सिद्धू मूसेवाला।

इस गीत का टाइटल 'VAAR' रखा गया है। यह गीत असल में भी एक 'वार' है, जिसे पंजाब के वीर योद्धा नायक हरि सिंह नलवा के लिए गाया गया। सिद्धू मूसेवाला ने इस गीत को गाया तो जरूर, लेकिन रिलीज होने से पहले ही उनकी हत्या कर दी गई। यह उनकी मौत के बाद दूसरा गीत है, जिसका फैंस को बेसब्री से इंतजार कर रहे थे।

हरि सिंह नलवा व महाराजा रणजीत सिंह।
हरि सिंह नलवा व महाराजा रणजीत सिंह।

जानें कौन हैं हरि सिंह नलवा
सरदार हरि सिंह नलवा महाराजा रणजीत सिंह के सेनाध्यक्ष थे। महान लड़ाके हरि सिंह नलवा ने पठानों के विरुद्ध कई युद्धों का नेतृत्व किया और महाराजा रणजीत सिंह को जीत दिलाई। हरि सिंह नलवा को भारत के श्रेष्ठ योद्धाओं में जगह दी जाती है। इनके नेतृत्व में ही कसूर, सियालकोट, अटक, मुल्तान, कश्मीर, पेशावर और जमरूद के युद्धों में जीत मिली थी। उनके नेतृत्व के कारण ही सिख साम्राज्य की सीमा को सिंधु नदी के परे खैबर दर्रे तक पहुंचा दिया था।

हरि सिंह नलवा एक बार महाराजा रणजीत सिंह के साथ शिकार पर थे। इस दौरान उनका सामना शेर से हो गया, लेकिन हरि सिंह नलवा ने मुकाबला करते हुए शेर का जबड़ा हाथों से ही चीर दिया था।

गीत के शॉट
गीत के शॉट

मौत के बाद भी जिंदा है सिद्धू मूसेवाला की आवाज
पिता बलकौर सिंह ने सिद्धू मूसेवाला की मौत के बाद कहा था कि उनके गई गीत रिलीज के लिए तैयार हैं, तो कइयों को वह लिख भी चुका है। मौत के बाद भी सिद्धू मूसेवाला की आवाज जिंदा रहने वाली है। हर छह महीनों के बाद सिद्धू मूसेवाला का एक गीत रिलीज किया जाएगा। यह गीत इसी कड़ी के बीच दूसरा गीत है।

पहला गीत SYL कर दिया गया था बैन
सिद्धू मूसेवाला का मृत्यु के बाद यह दूसरा गीत है। पहला गीत उनके पिता के नेतृत्व में SYL (सतलुज-यमुना लिंक नहर) रिलीज किया गया था। जिसमें पंजाब के पानी के मुद्दे को उठाया था। SYL मुद्दा आज भी पंजाब व हरियाणा के बीच तनाव पैदा किए हुए है। इस गीत के बाद बलविंदर सिंह जटाना भी लाइमलाइट में आ गया था, लेकिन इस गीत को भारत सरकार ने दो दिन के बाद ही बैन कर दिया था। दो दिनों में ही 2.7 करोड़ व्यूज मिल गए थे। विदेशों में यह गीत अभी भी काफी अधिक सुना जाता है।