समागम / सादगी से मनाया मीरी-पीरी दिवस

X

  • जत्थेदार बोले, गुरु हरगाेबिंद साहिब के दिखाए मार्ग पर चले संगत

दैनिक भास्कर

Jul 01, 2020, 05:41 AM IST

अमृतसर. गुरु हरगाेबिंद साहिब के मीरी पीरी दिवस के अवसर पर अकाल तख्त साहिब पर गुरमति समागम करवाया गया। समागम में दरबार साहिब के हैड ग्रंथी ज्ञानी जगतार सिंह, अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह, तख्त केसगढ़ साहिब के जत्थेदार ज्ञानी रघुबीर सिंह समेत अन्य प्रमुख शामिल थे।

अखंड पाठ साहिब के भाेग उपरांत दरबार साहिब के हजूरी रागी भाई कंवलजीत सिंह ने संगत काे गुरबाणी कीर्तन के साथ जाेड़ा व अरदास भाई गुरचरन सिंह ने की। हुक्मनामे के बाद ज्ञानी जगतार िसंह ने मीरी पीरी दिवस का इतिहास सांझा करते हुए संगत काे गुरु साहिब की ओर से दर्शाए मार्ग पर चलने की प्रेरणा की।

उन्हाेंने कहा कि गुरु साहिब ने सिख काैम काे शस्त्र के साथ जाेड़ा था। शस्त्र हमें सवै रक्षा प्रदान करता है। उन्हाेंने कहा कि गुरु की बख्शीश शस्त्र के साथ ही चीन के बार्डर पर अमृतधारी गुरसिख की ओर से दुश्मन का मुकाबला किया गया।

जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने मीरी पीरी दिवस की बधाई देते हुए कहा कि अाज का दिन सिख काैम के लिए अहम है। इसी दिन ही गुरु साहिब ने तख्त पर िवराजमान हाेकर मीरी व पीरी की तलवारें पहनी थी।

उन्हाेंने कहा कि सिख काैम काे अपनी परंपराओं पर पहरा देना चाहिए।  समागम के दाैरान जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने अकाल तख्त साहिब पर सुशाेभित गुरु साहिब की एेतिहासिक मीरी व पीरी की तलवाराें के दर्शन संगत काे करवाए।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना