पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

अमृतसर में एक दिन में 25 मौतें:कोरोना से 24 घंटे में इतनी मौत पहली बार; पंजाब में सबसे ज्यादा मौतें अमृतसर में

अमृतसरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शिवपुरी में वीरवार शाम सवा 6 बजे एक साथ जलीं 7 चिताएं। - Dainik Bhaskar
शिवपुरी में वीरवार शाम सवा 6 बजे एक साथ जलीं 7 चिताएं।
  • 30 दिन में 333 की जान गई, 2020 में मार्च से सितंबर के बीच हुई थी इतनी डेथ

कोरोना की वजह से वीरवार को अमृतसर में एक ही दिन में 25 मरीजों ने दम तोड़ दिया। कोरोनाकाल के 14 महीनों में 24 घंटे के अंदर इतने लोगों की मौत पहली बार हुई है। वीरवार को इस महामारी से पंजाब के अंदर सबसे ज्यादा लोगों ने अमृतसर में ही दम तोड़ा। दूसरे नंबर पर लुधियाना रहा जहां बीते 24 घंटे में 19 मरीजों की जान गई।

अमृतसर में इससे पहले कोरोना से 5 मई और 28 अप्रैल को 18-18 मरीजों की जान गई थी। 5 मई का वह रिकॉर्ड मात्र 24 घंटे में ही टूट गया। बीते 6 दिनों में अमृतसर में कोरोना से 95 लोगों की जान जा चुकी है। यहां रोज औसतन 16 लोग अपनी जान गवां रहे हैं। यह आंकड़ा डराने वाला है क्योंकि लोग अभी भी सरकारी गाइडलाइन का पालन करते हुए न तो मास्क लगा रहे हैं और न ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं। सूबा सरकार की वैक्सीनेशन ड्राइव भी धीमी पड़ती जा रही है।

अमृतसर में वीरवार को कोरोना के 492 नए केस रिपोर्ट हुए। इनमें 367 कम्युनिटी स्प्रैड और 125 संपर्कवाले हैं। सेहत विभाग के अनुसार मई के पहले 6 दिनों में 3092 नए मरीज आ चुके हैं। रोजाना औसतन 515 मरीज मिल रहे हैं। अब तक जिले में कोरोना के 35600 केस आ चुके हैं जिनमें से 29106 ठीक हो चुके हैं। वीरवार को ही 400 लोग ठीक हुए। 5437 मरीजों का इलाज चल रहा है।

ओवरऑल मृत्युदर से मई की मृत्युदर 0.14% ज्यादा
पिछले 14 महीनों में जिले में कोरोना से 1057 लोगों की मौत हो चुकी है। इस दौरान कुल 35600 लोग संक्रमित मिले हैं। हर 100 संक्रमितों में से औसतन 2.93% की मृत्य हुई मगर मई के 6 दिनों में मृत्युदर 3.07% तक पहुंच गई है। 6 दिन में 95 लोगों ने दम तोड़ा जबकि 3092 नए केस आए हैं।

  • मरने वालों में 18 की उम्र 60 साल से ज्यादा... वीरवार को जान गंवाने वाले 25 मरीजों में से 18 की उम्र 60 साल से 85 साल के बीच थी। 44 से 59 साल वाले मरीजों की संख्या 7 रही।
  • 14 की मौत जीएनडीएच में- 24 घंटे में 14 मरीजों की जान जीएनडीएच में गई। 11 की मौत प्राइवेट अस्पतालों में हुई।
  • 18 शहरी, 7 ग्रामीण इलाकों से, 16 पुरुष और 9 महिलाएं- मरने वाले में 16 पुरुष और 9 महिलाएं थी। इनमें से 7 ग्रामीण और 18 शहरी इलाकों से थे।
खबरें और भी हैं...