पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सिटी अनलॉक:25% तक लौटी स्पोर्ट्स गुड्स की बिक्री, स्कूल-कॉलेज खुलने का इंतजार

अमृतसर24 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • तीसरी लहर के डर के बीच ट्रांसपोर्टेशन 10% तो स्पोर्ट्स का सामान 20% तक हुआ महंगा, खुलकर खरीदारी नहीं कर रहे लोग

लॉकडाउन खत्म होने और कोरोना से सुधरते हालातों के बीच मार्केट में स्पोर्ट्स गुड्स की बिक्री 25% तक रिकवर हो चुकी है। अब व्यापारियों को शिक्षण संस्थानों के खुलने का इंतजार है, क्योंकि स्पोर्ट्स गुड्स का कारोबार 70% तक स्टूडेंट्स पर निर्भर है। खेलों के जीत पुरस्कारों का वितरण भी शिक्षण संस्थानों
और इंस्टीट्यूट की तरफ से ही अधिक बांटे जाते है। कारोबारियों ने बताया कि वीकएंड लॉकडाउन खत्म होने के बाद ग्राहक सामान खरीदने तो आ रहें, लेकिन खुलकर खरीदारी नहीं कर रहे। कोरोना के 2 बरसों में ट्रांसपोर्टेशन 10% और स्पोर्ट्स का सामान 20% तक महंगा हो गया है। जालंधर, दिल्ली जैसे शहरों से सबसे अधिक स्पाेर्ट्स का सामान मंगवाया जाता है। लेबर संकट के कारण रिक्शा और टैंपो चालकों ने भी किराया बढ़ा दिया है। जो वॉलीबॉल पहले 300 रुपए का मिलता था, अब उसकी कीमत 350 रुपए पहुंच चुकी है। सरकार को चाहिए कि सभी तरह के टैक्स 5% करके राहत दे।
तीसरी लहर का डर इसलिए सेल कम: सरबजीत सिंह
हाल बाजार के स्पोर्ट्स गुड्स् दुकानदार सरबजीत सिंह बताते हैं कि लोगों के मन में कोरोना के तीसरी लहर का डर होने के कारण लोग खरीदारी कम कर रहे। वीकएंड लॉकडाउन खत्म होने के बाद 25% तक कारोबार लौट सका है। सिर्फ जरूरी सामान ही ग्राहक खरीदना चाहते हैं।
शिक्षण संस्थान बंद होने से कारोबार कम: दलजीत
डीएस स्पोर्ट्सआईएच मार्केट के दुकानदार दलजीत सिंह का कहना है कि 10 से 17 साल तक के लड़कों की डिमांड स्पोर्ट सामान को लेकर अधिक होती है। शिक्षण संस्थानों के नहीं खुलने से यह कारोबार प्रभावित है। कोरोना की तीसरी लहर का डर भी लोगों में बना हुआ है।
सरकार 5% तक टैक्स में दे छूट: भूपिंदर सिंह
हॉल बाजार स्थित स्पोर्ट्स गुड्स दुकानदार भूपिंदर सिंह का कहना है कि टैक्स घटाकर 5% तक कर दिया जाना चाहिए। जिससे कारोबारियों को राहत मिल सके। कोरोना के 2 सालों में सिर्फ महंगाई बढ़ी है जिससे कारोबार पटरी पर लौट नहीं पा रहा है।

खबरें और भी हैं...