पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Amritsar
  • The Government Has Lost Its Senses, The Center Has Issued A Letter In A Hurry, Now The Vaccines Will Have To Be Monitored, The Health Department Will Not Look At The Private Centers

पंजाब में कोरोना की नकली वैक्सीन का अलर्ट:सेहत विभाग ने सभी जिलों में भेजा पत्र, टीकों की निगरानी के आदेश; प्राइवेट अस्पताल अपने लेवल पर मंगवा रहे दवा इसलिए गड़बड़ी की गुजाइंश

अमृतसर9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
प्रतीकात्मक फोटो। - Dainik Bhaskar
प्रतीकात्मक फोटो।

कोरोना की तीसरी लहर दस्तक दे रही है। एक्सपर्ट लगातार चेतावनी दे रहे हैं। संकट सिर पर मंडरा रहा है। इन सबके बीच नकली वैक्सीन मिलने की खबर आई है, जिससे पंजाब सरकार के होश उड़ गए हैं। सेहत विभाग ने आनन-फानन मे सभी जिलों के अस्पतालों और वैक्सीन सेंटरों में नकली टीकों को लेकर सावधानी बरतने के निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही स्वास्थ्य अधिकारियों को बेहद सतर्क रहने की भी हिदायत दी है।

दक्षिण पूर्व एशिया और अफ्रीका में नकली कोवीशील्ड
केंद्र सेहत विभाग की तरफ से राज्य सरकारों और फिर राज्य सरकार की तरफ से जिले के सिविल सर्जनों को इस संबंध में एक पत्र जारी किया गया है। इसके अनुसार दक्षिण पूर्व एशिया और अफ्रीका में नकली कोवीशील्ड वैक्सीन की पहचान हुई है। कोवीशील्ड वैक्सीन बनाने वाली कंपनी और डब्ल्यूएचओ ने इसकी पुष्टि की है। केंद्र की तरफ से जारी पत्र के अनुसार कोवीशील्ड वैक्सीन की खेप निर्माता कंपनी ने सप्लाई नहीं की थी। इस खबर के बाद खलबली मची और वैक्सीन की जांच करवाई गई। जांच में वैक्सीन के नकली होने की पुष्टि हुई है। माना जा रहा है कि नकली वैक्सीन सप्लाई के और भी मामले सामने आ सकते हैं।

बढ़ाई जाएगी निगरानी
अमृतसर की जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. रेणू भाटिया ने कहा नकली वैक्सीन की खबरें आने के बाद चुनौती बढ़ गई है। अभी तक तो लोगों को वैक्सीन लगवाने के लिए प्रेरित किया जा रहा था और इन हालातों के नकली वैक्सीन को लेकर अलर्ट जारी हुई है। नकली वैक्सीन मिलने की खबर से लोगों में भ्रम की स्थिति पैदा हो सकती है। इस संबंध में विशेष निगरानी बनाएं रखने के निर्देश दिए गए हैं। साथ ही सप्लाई चेन की भी निगरानी बढ़ाई जाएगी।

अमृतसर में कोरोना वैक्सीनेशन अभियान जोरों पर है।
अमृतसर में कोरोना वैक्सीनेशन अभियान जोरों पर है।

सरकारी खेप की हो रही जांच, प्राइवेट सेंटर राम भरोसे
डॉ. भाटिया ने कहा कि सिविल सर्जन की तरफ दवा की सप्लाई पर पूरा ध्यान रखा जा रहा है। इतना ही नहीं स्टेट डिस्ट्रीब्यूशन सेंटर से भी दवा चेक होकर आ रही है। लेकिन, प्राइवेट सेंटर अपनी सप्लाई खुद मंगवाते हैं। उनके यहां जाने वाली कोवीशील्ड वैक्सीनेशन की जांच सरकारी एजेंसी नहीं कर रही। वे खुद दवा खरीद रहे हैं तो वे खुद ही इंजैक्शन पर नजर भी रखेंगे।

असली कोवीशील्ड की ऐसे करें पहचान

  • एक असली कोवीशील्ड की शीशी की बोतल पर गहरे हरे रंग में SII उत्पाद का लेबल शेड, ट्रेडमार्क के साथ ब्रांड का नाम और गहरे हरे रंग की एल्यूमीनियम फ्लिप-ऑफ सील होती है।
  • SII लोगो लेबल के चिपकने वाली और एक अलग कोण पर मुद्रित होता है। जिसे केवल उन कुछ चुनिंदा लोगों ही सटीकता से पहचान सकते हैं।
  • अक्षरों को अधिक स्पष्ट और पठनीय होने के लिए विशेष सफेद स्याही में मुद्रित किया जाता है।
  • मापदंडों के अनुसार, पूरे लेबल को एक विशेष बनावट दी गई है, जो केवल एक विशिष्ट कोण पर दिखाई देती है।
खबरें और भी हैं...