पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

जासूसी के आरोप में पकड़े हरप्रीत का मामला:पैसे के लिए गांव के तस्कर के कहने पर गद्दार बन गया फौजी

अमृतसर22 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • गांव वाले बोले- हरप्रीत लड़ाई-झगड़ों के लिए पहले ही बदनाम था

जालंधर पुलिस की ओर से मंगलवार को पकड़ा गया फौजी हरप्रीत सिंह गांव के ही तस्कर के कहने पर पैसाें के लालच में देश से गद्दार कर रहा था। अमृतसर के गांव चीचा के रहने वाले फाैजी हरप्रीत सिंह को जालंधर पुलिस जासूस के आरोप में गिरफ्तार किया था। उसका साथ एक अन्य साथी भी पकड़ा गया था।

दाेनाें का पुंलिस ने 7 दिन का पुलिस रिमांड हासिल किया था। गांव चीचा के लोगों के अनुसार हरप्रीत सिंह गरीब परिवार से था। घर की गरीबी काे दूर करने के लिए वह 2017 में भारतीय फाैज में भर्ती हो गया था। भर्ती से पहले वह गांव में आवारागर्दी करता था। आए दिन किसी न किसी से झगड़ता करता था।

गांववासियों के अनुसार फाैजी हरप्रीत सिंह का करेक्टर पहले से ही सही नहीं था। उसके पिता अमरजीत सिंह हैं मेहनत मजदूरी करते हैं। हरप्रीत सिंह की तीन बहनें और दाे भाई और हैं। हरप्रीत की गिरफ्तारी की सूचना मिलने के बाद पूरा परिवार दहशत में है। जानकारी के अनुसार फाैजी हरप्रीत सिंह के ही गांव का रहने वाले रशपाल सिंह काे हेरोइन तस्करी के एक मामले में जालंधर पुलिस ने गिरफ्तार किया था। पूछताछ के दाैरान उसने अपने लिंक पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी से बताए। उसने कहा कि इस काम के लिए उसने अपने ही गांव के हरप्रीत सिंह फाैजी से संपर्क कर उसे पैसों का लालच देकर इस काम में शामिल किया। हरप्रीत सिंह ने अपनी ही यूनिट के एक अन्य क्लर्क का साथ लिया। पैसों के लालच में इनके द्वारा जनवरी से लेकर मई तक 900 क्लासिफाइड दस्तावेज पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई काे पहुंचाए।

खबरें और भी हैं...