नीलकंठ अस्पताल में 6 मरीजाें की मौत का मामला:बयान के लिए मृतकों के परिवारों को तीसरा लैटर भेजा

अमृतसर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

फतेहगढ़ चूडिय़ां रोड स्थित नीलकंठ अस्पताल में बीते शुक्रवार रात को ऑक्सीजन की कमीं के कारण हुई 6 लोगों की मौत के मामले की जांच अब आखिरी चरण में है। इस मामले में अभी तक अस्पताल के मालिक, स्टाफ के अलावा तीन मृतकों के परिजन अपने बयान दर्ज करवा चुके हैं।

दूसरी तरफ अन्य तीन मृतकों के परिजनों ने चौथे और भोग के बाद अपने बयान देने की बात कही है। जांच कमेटी इनसे दो बार फोन पर संपर्क साध चुकी है और अब तीसरी बार दोबारा से लिखित में भी भेजा गया है। डिप्टी कमिश्नर के आदेशों पर डिप्टी डायरेक्टर लोकल बॉडीज रजत ओबराय और सिविल सर्जन डा. चरणजीत सिंह की दो मेंबरी कमेटी मामले की जांच कर रही है।

जिसमें मृतकों के वारिसों के बयानों के बाद अस्पताल मालिक, स्टाफ से क्रास क्वेश्चनिंग भी की जाएगी। इसके अलावा मृतकों के मैडीकल रिकार्ड (फाइलों) के आधार पर एक्सपर्ट्स की राय भी ली गई है। जांच के दौरान इंप्रूवमेंट ट्रस्ट दफ्तर में अस्पताल के मालिक, दो ईएमओ और दो नर्सें पेश हुई थी।

वहीं सिविल सर्जन दफ्तर में तीन मृतकों के वारिसों ने अपने बयान दे चुके हैं। डिप्टी कमिश्नर ने मामले की 48 घंटे में रिपोर्ट मांगी थी, जिसके बाद कमेटी अब दो दिन के अंदर इसकी जांच पूरी करने में जुट गई है।

खबरें और भी हैं...