• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Amritsar
  • Udham Singh Nagar Also Should Not Become "Latifpura"... 2 Hours Protest Against Waqf Team Which Went To Vacate 4 Houses

विरोध और नारेबाजी:ऊधम सिंह नगर भी न बन जाए "लतीफपुरा'... 4 घर खाली कराने गई वक्फ टीम के खिलाफ 2 घंटे धरना

अमृतसर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

वार्ड 68 के अधीन आती झब्बाल रोड स्थित ऊधम सिंह कॉलोनी 4 घरों को खाली कराने पहुंची वक्फ बोर्ड टीम को चौथी बार फिर लोगों के विरोध का सामना करना पड़ा। बोर्ड टीम के आने से पहले ही लोगों ने सड़क पर जाम लगाकर धरना-प्रदर्शन शुरू कर दिया। ड्यूटी मजिस्ट्रेट, वैल्फ, वकील और भारी पुलिस बल होने के बावजूद बोर्ड अफसरों को फिर खाली हाथ लौटना पड़ा। समाज सेवक वरिंदर सहदेव, वार्ड पार्षद ताहिर शाह लोगों के हक के लिए उनके साथ खड़े हैं।

उनको खबर थी कि सोमवार को जो टीम वापस गई है वह मंगलवार को फिर आएगी। इसके लिए पार्षद दफ्तर में सुबह से ही इलाके के लोग जमा हो गए थे। बोर्ड की टीम कब पहुंचनी है इसकी पल-पल की खबर रखी जा रही थी। इलाकावासियों की तरफ से कुछ लोग 11 बजे से ही सड़क स्थित बेदी पेट्रोल पंप पर मौजूद होकर बोर्ड की टीम के आने की जानकारी भीतर भेज रहे थे। टीम के आने की खबर मिलते ही 1:15 बजे लोग सड़क पर आ गए और धरना दे दिया।

850 घरों का मसला : ताहिर शाह
वार्ड पार्षद ताहिर शाह ने कहा कि यहां पर 850 घर आबाद हैं। यह लोग पीढ़ियों से यहां रह रहे हैं। उन्होंने इन जमीनों पर मकान बना लाखों खर्च किए हैं, अब उनको उजाड़ने की कोशिश है, लेकिन इसे किसी भी कीमत पर नहीं होने देंगे। अगर कोई कार्रवाई होनी है तो उनकी लाशों से गुजर कर ही होगी।

लोग बोले- मर जाएंगे पर घर नहीं छोड़ेंगे, बोर्ड करना चाह रहा बेघर
धरने पर बैठे लोगों ने सड़क जाम कर दी और वहीं बैठ गए। इस दौरान यह जो जमीन सरकारी है वह जमीन हमारी है, वक्फ बोर्ड वापस जाओ वक्फ बोर्ड मुर्दाबाद, मर जाएंगे पर जमीन नहीं छोड़ेंगे जैसे नारे लगा रहे थे। इलाकावासियों की नुमाइंदगी करते हुए वरिंदर सहदेव ने कहा कि यहां पर देश के बंटवारे से लोग रह रहे हैं। अब बोर्ड उनको बेघर करना चाह रहा है। उनका कहना है कि कागजी तौर पर यह जमीन केंद्र सरकार की है। बोर्ड जानबूझ कर लोगों को तंग कर रहा है।

ड्यूटी मजिस्ट्रेट, 5 वैल्फ और 150 पुलिस मुलाजिम लौटे वापस
2.30 बजे के करीब ड्यूटी मजिस्ट्रेट नवकीरत सिंह की अगुवाई में बोर्ड के एस्टेट अफसर नदीम, 5 वैल्फ गुरजिंदर सिंह, मुख्तार सिंह, भुपिंदर सिंह, मित्तर सिंह और बलदेव सिंह, वकील और करीब 150 पुलिस मुलाजिम मौके पर पहुंचे, लेकिन लोगों ने रास्ता पहले से रोक रखा था। टीम को देख लोग आक्रामक हो गए और नारेबाजी करने लगे। हालांकि पुलिस और ज्यूडिशियली के लोगों ने उनको समझाने की कोशिश की लेकिन वह नहीं माने तो फिर टीम वापस चली गई। ड्यूटी मजिस्ट्रेट नवकीरत सिंह ने बताया कि माननीय कोर्ट के आदेशों के मुताबिक वह लोग चार घरों का कब्जा छुड़ाने आए थे।

खबरें और भी हैं...