पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

वर्कशाॅप:यूनियनाें का आरोप-निजी कंपनी के फायदे को 5 साल पुरानी गाड़ियां कंडम कर रहे मेयर

अमृतसरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नगर निगम ऑटो वर्कशाॅप से 11 डंपर प्लेसर फील्ड में नहीं भेजने और बाकी गाड़ियां भी इंडेंट पर ही निकाले जाने के आदेशों पर निगम यूनियनों ने विरोध जताना शुरू कर दिया है। निगम यूनियनों का आरोप है कि मेयर और कमिश्नर प्राइवेटाइजेशन को बढ़ावा देने में लगे हैं। अकाली-भाजपा सरकार के कार्यकाल में 5 साल पहले सवा चार करोड़ रुपए से खरीदी गई सरकारी मशीनरी वर्कशॉप में खड़ी कर कंडम कराकर सारा

काम प्राइवेट हाथों में देने की साजिश रची जा रही है। हाल ही में स्मार्ट सिटी के तहत खरीदी गई ट्रक माउंटेड वैक्यूम रोड स्वीपिंग मशीन को तेल तो निगम के पेट्रोल पंप से डाला जा रहा है, लेकिन उसे प्राइवेट हाथों में सौंप दिया गया है। यूनियनों ने चेतावनी दी कि अगर आदेश वापस नहीं लिए गए तो वीरवार को 72 घंटे के अल्टीमेटम बाद मेयर निवास के बाहर सारी मशीनरी खड़ी करके अनिश्चितकालीन धरना दिया जाएगा।

यूनियन नेताओं ने कहा कि कुछ दिन पहले ही स्मार्ट सिटी के तहत निगम को 26 लाख रुपए की लागत से नई रोड स्वीपिंग मशीन दी गई थी। जिसमें रोजाना निगम के पेट्रोल पंप से 80 लीटर तेल डाला जा रहा है। वहीं इस गाड़ी को प्राइवेट मुलाजिम चला रहा है। कूड़ा लिफ्टिंग कंपनी को डोर-टू-डोर लिफ्टिंग के लिए ढाई करोड़ रुपए दिए जा रहे हैं, वहीं कंपनी घरों से 30 रुपए अलग से ले रही है। अगर सेनेटरी इंस्पेक्टर कंपनी की गलती पर जुर्माना लगाने लगता है तो उसे रोक दिया जाता है।

मिलीभगत से चहेते ठेकेदारों को दे रहे हर काम: यूनियनें- सफाई मजदूर यूनियन के प्रधान विनोद कुमार बिट्टा, म्युनिसिपल यूथ इंप्लाइज फेडरेशन के प्रधान आशू नाहर ने कहा कि मंगलवार को मीटिंग में मेयर कमिश्नर ने ये आदेश जारी किए थे। इन मौखिक आदेशों पर बुधवार को 11 डंपर प्लेसर (कूड़े से भरे बिन उठाने वाला) फील्ड में भेजने से रुकवा दिए गए। इसके अलावा 4 पानी के टैंकर, एक टोचन, दो एलकी बड़े ट्रक, 8 जेसीबी और 5 टिप्पर सेनेटरी इंस्पेक्टर की ओर से इंडेंट देने पर ही निकालने को कहा गया है। जबकि कोई आदेश लागू नहीं थे, वर्कशाॅप के मुलाजिमों को दबाने और प्राइवेट कंपनियों को फायदा पहुंचाने के लिए ये आदेश जारी किए गए हैं। बिट्टा ने कहा कि निगम के पास सारा काम देने के लिए एक ही प्राइवेट ठेकेदार मनजिंदर सिंह रह गया है। मुलाजिमों को जब चाहे रखो और जब चाहो निकाल दो।

एडवरटाइजमेंट करवाने से लेकर स्प्रै मैनों की मशीनें खरीदने का काम भी उसी ठेकेदार को दिया जा रहा है। छेहर्टा की तरफ ठेकेदार रखा गया है, जिसमें रेलवे स्टेशन से लेकर गोल्डन गेट तक के लंबे रूट पर सिर्फ 7 लोग सफाई के लिए रखे हैं। जिसमें चार झाडू और तीन ट्राॅली पर लगाए हैं। कुछ साइकिल स्टैंड भी पार्षदों के रिश्तेदारों को दिए गए हैं। पूर्व कमिश्नर डीपीएस खरबंदा के समय में प्राॅपर्टी टैक्स कलेक्शन ज्यादा थी, अब कोई सुध नहीं ले रहा। तहबाजारी पर भी कोई ध्यान नहीं, सिर्फ सफाई मुलाजिम दबाए जा रहे हैं। कोरोना वैक्सीन भी पहले अफसरों की करवाने के बाद ही मुलाजिमों का टीकाकरण हो।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- इस समय ग्रह स्थितियां पूर्णतः अनुकूल है। सम्मानजनक स्थितियां बनेंगी। विद्यार्थियों को कैरियर संबंधी किसी समस्या का समाधान मिलने से उत्साह में वृद्धि होगी। आप अपनी किसी कमजोरी पर भी विजय हासिल...

    और पढ़ें