लखबीर के घर पहुंची SIT:बेअदबी केस में बहन-पत्नी से 40 मिनट बात की, हवेलियां में परगट के परिवार से भी पूछताछ

तरनतारन2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

हरियाणा पुलिस ने सिंघु बॉर्डर पर 15 अक्टूबर की सुबह मारकर बैरिकेड पर लटकाए गए लखबीर सिंह के खिलाफ बेअदबी से जुड़े केस की जांच शुरू कर दी है। इस सिलसिले में सोनीपत की स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (SIT) शुक्रवार को पंजाब में तरनतारन जिले के चीमा गांव में लखबीर सिंह के घर पहुंची। टीम ने हवेलियां गांव में उस परगट सिंह के परिवार से भी पूछताछ की जिसका मोबाइल नंबर लखबीर ने वीडियो में बताया था।

लखबीर सिंह के खिलाफ बेअदबी के आरोप में कुंडली थाने में आईपीसी की धारा 295ए के तहत FIR नंबर 612 दर्ज की गई है। बेअदबी का यह केस निहंग बाबा बलविंदर सिंह की शिकायत पर दर्ज किया गया है। निहंगों का आरोप है कि 15 अक्टूबर, दशहरे वाली सुबह सिंघु बॉर्डर पर लखबीर सिंह ने श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी की थी और इसी वजह से उसका हाथ और पैर काटा गया। ज्यादा खून बह जाने और शरीर पर घावों की वजह से लखबीर ने दम तोड़ दिया था।

SI रणबीर सिंह ने तरनतारन के हवेलियां गांव में परगट सिंह के घर-परिवार से भी पूछताछ की। परगट सिंह वही शख्स है जिसका मोबाइल नंबर लखबीर ने वीडियो में बताया था।
SI रणबीर सिंह ने तरनतारन के हवेलियां गांव में परगट सिंह के घर-परिवार से भी पूछताछ की। परगट सिंह वही शख्स है जिसका मोबाइल नंबर लखबीर ने वीडियो में बताया था।

बहन-पत्नी से पूछताछ, परिवार को साजिश का शक
शुक्रवार दोपहर चीमा गांव पहुंची हरियाणा पुलिस की SIT में शामिल सब-इंस्पेक्टर (SI) रणबीर सिंह ने लखबीर सिंह की बहन राज कौर और पत्नी जसप्रीत कौर से लगभग 40 मिनट तक पूछताछ की। राज कौर ने हरियाणा पुलिस को बताया कि उसका भाई बेअदबी जैसा काम नहीं कर सकता और उसे साजिश के तहत मारा गया है।

बहन ने बताया- 50 रुपए लेकर निकला था
राज कौर ने SIT को बताया कि लखबीर उससे 50 रुपए लेकर यह कहते हुए घर से निकला था कि वह मंडी जा रहा है। उसके बाद वापस नहीं लौटा। 15 अक्टूबर को लगभग 10 बजे उसे ग्रामीणों से पता चला कि लखबीर को सिंघु बॉर्डर पर मार दिया गया है। राज कौर ने दावा किया कि उसका भाई अकेला सिंघु बॉर्डर पर नहीं जा सकता। SIT ने चीमा गांव के लोगों से भी लखबीर को लेकर सवाल पूछे।

परगट के परिवार से एक घंटे तक पूछताछ
हरियाणा पुलिस की SIT भारत-पाक बॉर्डर के पास बसे तरनतारन जिले के ही हवेलियां गांव में परगट सिंह के घर भी पहुंची। परगट सिंह वही शख्स है, जिसका मोबाइल नंबर लखबीर एक वीडियो में बताता हुआ नजर आ रहा है। इस वीडियो में लखबीर के शरीर पर चोट का कोई निशान नहीं है।

SIT मेंबरों ने लगभग 1 घंटे तक परगट सिंह के परिवार से पूछताछ की। इस दौरान परगट सिंह व लखबीर के एक-दूसरे के संपर्क में आने और दोनों के सिंघु बॉर्डर पर पहुंचने को लेकर जानकारी जुटाई गई। SIT ने हवेलियां गांव के लोगों से भी परगट सिंह के बारे में सवाल-जवाब किए। कहा जा रहा है कि परगट सिंह के घर ही लखबीर काम करता था।

SIT में शामिल सब-इंस्पेक्टर रणबीर सिंह ने बताया कि SIT के मेंबर तरनतारन में ही मौजूद हैं और केस के अलग-अलग पहलुओं पर जानकारी जुटा रहे हैं। टीम पता लगाने की कोशिश कर रही है कि आखिर लखबीर सिंघु बॉर्डर पर कब पहुंचा? उसके साथी कौन-कौन हैं।

लखबीर के गांव में देखा गया सरेंडर करने वाला निहंग
लखबीर की हत्या से जुड़े केस में सबसे पहले सरेंडर करने वाले निहंग सरबजीत सिंह को लखबीर के गांव चीमा और इसके आसपास कई बार देखा गया। लखबीर की पत्नी जसप्रीत कौर ने SIT को बताया कि सरबजीत तरनतारन जिले से ही ताल्लुक रखता है। ऐसे में इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि सरबजीत ही लखबीर को अपने साथ सिंघु बॉर्डर ले गया हो। SIT की जांच में यह एंगल भी शामिल है।

खबरें और भी हैं...