वेतन देने का फैसला किया:सरकारी हाई स्कूल दीवाना में प्राइवेट रखे अध्यापकों को एनआरआई ने दिया वेतन

बरनाला2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • इसके लिए प्राइवेट तौर पर अध्यापक रखे गए जिन्हें वेतन नहीं मिल पा रहा था

सरकारी हाई स्कूल गांव दीवाना में प्राइवेट तौर पर रखे गए अध्यापकों को एनआरआई लोगों के सहयोग से संगठन की सामाजिक संस्थाओं की तरफ से वेतन दिया गया। युवक सेवा क्लब के प्रधान हरजिंदर सिंह ने बताया कि गांव के सरकारी स्कूल में सामाजिक शिक्षा (एसएसटी) और गणित की पोस्ट खाली थी। इससे स्कूल में पढ़ने वाले करीब 200 विद्यार्थियों की पढ़ाई खराब हो रही थी। इसके लिए प्राइवेट तौर पर अध्यापक रखे गए जिन्हें वेतन नहीं मिल पा रहा था।

इसकी जानकारी उन्होंने गांव के एनआरआई चरण सिंह सिद्धू, वीर राजा ढिल्लों और जीता ढिल्लों को मिली तो उन्होंने प्राइवेट तौर पर रखे गए अध्यापकों को वेतन देने का फैसला किया। इनके सहयोग से हर महीने दोनों अध्यापकों को वेतन दिया जाता है। उन्होंने कहा कि सरकार की तरफ से जब तक यह पोस्ट नहीं भरी जाती तब तक बच्चों की पढ़ाई को सही तरीके से चलाने के लिए यह सहायता जारी रहेगी। मुख्याध्यापक मनजीत कौर, मास्टर गोपाल सिंह, बिक्कर सिंह, हरपाल सिंह, रंजीत सिंह ने बताया कि गांव के लोगों में एनआरआई लोगों की तरफ से शुरू किए गए प्रयास बेहद अच्छे हैं। इस तरह के प्रयास सभी लोगों को करने चाहिए ताकि जरूरतमंद बच्चों की पढ़ाई पर कोई नुकसान ना हो।

खबरें और भी हैं...