अधूरा पड़ा वादा:प्रशासन ने किसानों को 8 माह बाद भी नहीं दिया मुआवजा

अबोहर9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बहावलबासी के खेतों में करीब 8 महीने बाद भी भरा बारिश का पानी। - Dainik Bhaskar
बहावलबासी के खेतों में करीब 8 महीने बाद भी भरा बारिश का पानी।
  • बारिश से प्रभावित क्षेत्र के किसानों को जनवरी में मुआवजा देने का किया था वादा

अगस्त 2020 में हुई मूसलाधार बारिश से जहां पूरे जिले में करीब 77 हजार एकड़ और बल्लुआना विधानसभा के 40 गांवों में करीब 54000 एकड़ धान व नरमे की फसल बर्बाद हो गई थी। इतना ही नहीं बारिश के पानी से प्रभावित ज्यादातर क्षेत्र में गेहूं की बिजाई तक नहीं हो सकी और सेम आने के बाद आगे की फसल की भी किसानों को उम्मीद नहीं है।

वहीं पंजाब सरकार और जिला प्रशासन द्वारा किसानों को मुआवजा राशि नहीं दी गई है। जिस कारण किसानों में सरकार और प्रशासन के खिलाफ रोष पाया जा रहा है। बता दें कि करीब 7 महीने पहले बारिश से लबालब भरे इलाके का अकाली दल के अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल और पंजाब कांग्रेस अध्यक्ष सुनील कुमार जाखड़ सहित सरकार के मंत्रियों द्वारा दौरा भी किया गया था।

उसके बाद प्रशासनिक अधिकारियों द्वारा बारिश से प्रभावित गांव की गिरदावरी करवाई गई और उसकी रिपोर्ट बनाकर पंजाब सरकार को भेज दी गई। लेकिन उसके बाद भी आज तक किसानों को उनका उचित मुआवजा नहीं दिलाया गया है। उधर किसानों को प्रशासन द्वारा बारिश प्रभावित एरिया की गिरदावरी करवाने के बाद 2 से 3 बार मुआवजा दिलाने के वादे किए गए।

फसल की गिरदावरी करवाने के बाद प्रशासन ने वादा किया था कि 15 जनवरी तक किसानों को मुआवजा मिल जाएगा। लेकिन उसके बाद जब किसानों ने दोबारा से कार्यालय में पूछा तो उन्होंने मार्च के पहले सप्ताह तक किसानों को मुआवजा राशि जारी होने का वादा किया। लेकिन हर बार प्रशासन किसानों को लॉलीपोप दे देते हैं, जिस कारण किसानों में रोष है।

मुआवजे संबंधी केस सरकार को भेजा है : डीसी
जब इस संबंध में जिला उपायुक्त अरविंद पाल सिंह संधू से बात की गई तो उन्होंने कहा कि किसानों की बर्बाद हुई फसल का केस पंजाब सरकार को भेज गया है। जल्द ही उन्हें मुआवजा मिल जाएगा।

खबरें और भी हैं...