विवाद:दुकानदारों ने गाेशाला रोड की बंद, टीम को जानकारी देने से मना करने पर हुआ विवाद

अबोहर3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • प्रॉपर्टी टैक्स का सर्वे करने पहुंचे निगम कर्मचारियों की दुकानदारों के साथ हुई कहासुनी

नगर निगम द्वारा मकानाें व दुकानाें के सर्वे के लिए ठेके पर गठित की गई टीमों और गाेशाला रोड पर दुकानदारों के बीच शनिवार को तकरार हो गई। कर्मचारियों और दुकानदारों ने एक-दूसरे पर मारपीट करने के कथित आरोप लगाए हैं। घटना की सूचना मिलने पर मेयर विमल ठठई, निगम के अधिकारी, पार्षद व पुलिस कर्मचारी मौके पर पहुंचे और दोनों पक्षों को आमने-सामने बिठाकर समझौता करवाया।

निगम के अधिकारी मंगत वर्मा ने बताया कि शहर में प्रोपर्टी टेक्स व मकानों का सर्वे करने के लिए नगर निगम द्वारा हिसार की एक कंपनी को ठेका दिया गया है। कंपनी के 24 कर्मचारी अबोहर में प्रोपर्टी टैक्स से संबंधित सर्वे कर रहे हैं। शनिवार को 4 कर्मचारी कॉमर्शियल जोन गाेशाला रोड पर सर्वे कर रहे थे।

करीब 12 बजे जब कर्मचारी इन्वर्टर बैटरी शोरूम के संचालक अमन जैन व साथ में ड्राइक्लीनर की दुकान पर सर्वे करने पहुंचे तो दुकानदारों ने उन्हें जानकारी देने से मना किया। जिसको लेकर कर्मचारियों व दुकानदारों के बीच कहासुनी हो गई और मामला बढ़ गया। घटना की सूचना मिलने पर नगर निगम के मेयर विमल ठठई, पार्षदा के पति विक्रम शर्मा, पार्षद बब्बू नागपाल के बेटे साहिल नागपाल और पुलिस मौके पर पहुंची।

मेयर ने दोनों पक्षों की बातचीत सुनने के बाद समझौता करवाया। मेयर ठठई ने बताया कि सर्वे करने वाली टीम के ठेकेदार ने अपने कर्मचारियों की ओर से माफी मांगी है और उन्होंने इस संबंध में निगम के कमिश्नर को सूचित कर दिया है। अब वे ही मारपीट व अभद्र व्यवहार करने वाले कर्मचारियों के खिलाफ बनती कार्रवाई करेंगे।

विवाद के बाद गाेशाला रोड पर दुकानदारों ने दुकानें बंद कर दीं और रोड के बीच वाहन लगाकर पूरी सड़क बंद कर दी। दुकानदारों ने आरोप लगाया कि उक्त ठेकेदार की कंपनी के कर्मचारियों द्वारा उनके साथ अभद्र व्यवहार किया। दुकानदारों ने उक्त कर्मचारियों पर उनकी दुकान में पत्थरबाजी करने के भी कथित आरोप लगाए हैं।

कर्मचारियों से विवाद करना निंदनीय : नारंग
प्रोपर्टी टेक्स के सर्वे के दौरान हुए विवाद में विधायक अरूण नारंग ने कहा कि दुकानदारों द्वारा निगम के कर्मचारियों से विवाद करना निंदनीय है। नगर निगम द्वारा प्रत्येक शहरवासी पर अत्याधिक खर्चों का बोझ डाला जा रहा है, जबकि कांग्रेसी कार्यकर्ता उन टेक्सों से बचने के लिए लड़ाई-झगड़ा कर रहे हैं। उन्होंने निगम के मेयर व अन्य अधिकारियों से जांच कर कार्रवाई करवाने की मांग की है।

खबरें और भी हैं...