पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रोष:समिति के सेवादारों ने नहरों से शव न निकालने का किया फैसला

अबोहर11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • डेड बॉडी लेकर आ रहे सेवादारों से लूट का प्रयास, पुलिस की ढीली कार्रवाई से रोष

पुलिस का काम करते हुए नहरों से मृतक शव निकालने वाली समाजसेवी संस्था के सेवादारों के साथ शनिवार रात को आलमगढ़ बाइपास पर 8-10 लोगों द्वारा लूट का प्रयास किया गया। जब सेवादारों द्वारा पुलिस से मदद के लिए फोन किया तो पुलिस अधिकारियों द्वारा पल्ला झाड़ दिया गया। संस्था के सेवादारों ने पुलिस के ऐसे रवैये को देखते हुए नहरों से शव न निकालने का फैसला किया है। समिति के प्रमुख सेवादार राजू चराया ने बताया कि उनको थाना खुईयांसरवर के एसआई रेशम सिंह का फोन आया कि गांव पंजकोसी के रेलवे फाटक के निकट से गुजरने वाली नहर में अज्ञात शव मिला है। इसलिए गाड़ी और सेवादार भेजे जाएं। जिसपर उन्होंने समिति के सेवादार सोनू ग्रोवर और चरणजीत को फोन कर वहां पहुंचने को कहा। दोनों सेवादार वाहन लेकर साढ़े 9 बजे अबोहर से पंजकोसी के लिए रवाना हुए।

करीब 11.45 पर उन्होंने शव को निकाला। उन्होंने बताया कि नहर से निकाला गया शव सिख व्यक्ति का है। पुलिस द्वारा समिति के सदस्यों के साथ आने की बजाए उन्हें दोनों को ही अस्पताल के लिए रवाना कर दिया और आप थाने चले गए।जब संस्था के दोनों सदस्य श्रीगंगानगर बाइपास पर पहुंचे तो कुछ युवकों ने उनकी गाड़ी को रोक लिया। एक युवक ने सेवादार सोनू ग्रोवर के हाथ से मोबाइल छीन लिया। इतने में 7-8 युवक झाड़ियों में निकलकर गाड़ी के पास पहुंचे। सभी के मुंह बंधे हुए थे। संस्था के सेवादारों ने सभी लुटेरों से हाथ-पैर जोड़े, जिसके बाद उन्होंने सोनू ग्रोवर का लूटा हुआ मोबाइल वापिस लौटा दिया।

वहां से निकलने के बाद समिति के सेवादारों ने थाना सिटी टू के एसएचओ को फोन किया, लेकिन उन्होंने फोन नहीं उठाया। इसके बाद सोनू ग्रोवर ने सिटी टू के मुंशी को फोन किया और पूरी घटना के बारे में बताया। तो उन्होंने सेवादार से कहा कि वह सिटी टू पीसीआर को हूटर लगाकर बाइपास पर भेज रहे हैं। उन्होंने खुद एसएचओ को फोन किया, लेकिन उनके द्वारा फोन न उठाने पर उन्होंने मुंशी को फोन पर मौके पर पुलिस भेजने को कहा। परंतु मुंशी ने फिर वहीं बात दोहराई कि वह सिटी टू पीसीआर को भेज रहे हैं, अगर जरूरत पड़ी तो सिटी वन पीसीआर भी भेज देंगे और उसके बाद जरूरत पड़ी तो घटनास्थल से 200 मीटर दूरी पर स्थित सीआईए स्टाफ की पुलिस को सूचित कर देंगे।

खबरें और भी हैं...