पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

सियासी ड्रामा:कांग्रेसियों-अकालियों ने खुलवाईं दुकानें, रोकने पहुंची पुलिस तो कांग्रेसी भिड़ गए

बरनालाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
सुबह दुकान खुलवाने आए काउंसिल वाइस प्रधान नरेंद्र नीटा (दाएं) व्यापारियों की दुकानें खुलवाते हुए अकाली दल के हलका इंचार्ज कुलवंत सिंह कांता। - Dainik Bhaskar
सुबह दुकान खुलवाने आए काउंसिल वाइस प्रधान नरेंद्र नीटा (दाएं) व्यापारियों की दुकानें खुलवाते हुए अकाली दल के हलका इंचार्ज कुलवंत सिंह कांता।
  • अपने आप को बड़ा साबित करने के लिए नेताओं ने किया दुकानें खुलवाने का सियासी ड्रामा

पॉलीटिकल माइलेज लेने के लिए अपने आप को बड़ा व्यापारी हितैषी साबित करने के लिए नेताओं ने बिना सरकारी परमिशन के शुक्रवार को बाजार की सभी दुकान खुलवाने का सियासी ड्रामा किया। सुबह सरकार के आदेश के उल्ट पहले कांग्रेसियों ने और बाद में अकालियों ने आकर दुकानें खुलवाई और कहा कि व्यापारियों के हितों की रक्षा करने के लिए वह खड़े हैं। जबकि जिला प्रशासन की तरफ से सभी दुकानें खोलने का कोई भी आदेश सुबह जारी नहीं किया गया था। जिसके बाद बहुत बार पुलिस व नेताओं की नोकझोंक भी हुई।

गौरतलब है कि प्रदेश सरकार की तरफ से कोविड-19 के बढ़ रहे मामलों को देखते हुए 15 मई तक मिनी लॉकडाउन लगाने का ऐलान किया था। जिसमें सिर्फ जरूरी सामान की दुकानों को छोड़कर बाकी पूरे बाजार को बंद रखने की बात कही गई थी। इसके विरोध में लगातार पिछले 3 दिन से व्यापारी संघर्ष कर रहे हैं। 2 दिन पहले व्यापारियों और पुलिस का आपसी तकरार भी हुआ था। जिसके बाद सियासी पार्टियों ने इस मुद्दे पर राजनीति शुरू कर दी। सभी नेताओं ने इस मुद्दे पर क्रेडिट लेने के लिए दुकान निकलवाने की खुलवाने की बात कही।

नगर काउंसिल के वाइस प्रधान ने सोशल मीडिया पर मैसेज डाला उच्चाधिकारियों से बात हुई है, जल्द नोटिस आ जाएगा, दुकानें खोलें

अकाली बोले- तीन दिन से व्यापारियों के साथ हम खड़े हैं, कांग्रेसी कर रहे राजनीति

सुबह 9 बजे नगर काउंसिल के वाइस प्रधान नरेंद्र गर्ग नीटा व उनके पिता रघुवीर प्रकाश गर्ग बाजार में सभी दुकानें खुलवाने आए। सोशल मीडिया पर भी उन्होंने मैसेज सेंड किया कि उनकी उच्च अधिकारियों से बात हो गई है और जल्द ही नोटिस आ जाएगा। सभी व्यापारी अपनी दुकान खोलें। पुलिस ने उन्हें रोका और कहा कि अभी तक सरकारी आदेश नहीं आए हैं। लेकिन वह दुकान खुलवाने में व्यस्त रहे। इस दौरान उनकी पुलिस से नोकझोंक भी हुई। कांग्रेसियों के जाने के 2 घंटे बाद अकाली दल के हलका इंचार्ज कुलवंत सिंह कांता, जितेंद्र जिम्मी दुकान में खुलवाने आए।

उन्होंने बहुत सी दुकानें खुलवाई जो शुक्रवार को नहीं खुल सकती थी। नेता जितेंद्र जिम्मी ने कहा कि वह शुरू से ही व्यापारियों के साथ खड़े हैं। पिछले 3 दिन से कड़कती धूप में धरने लग रहे थे और वह व्यापारियों के साथ थे। अब कुछ लोग राजनीति करने उतर आए हैं और सभी लोगों को सच्चाई मालूम है। वह बाजार खुलवा कर ही दम लेंगे।

किसी के बहकावे में न आएं व्यापारी : प्रधान

मंडल के प्रधान अनिल बांसल नाणा ने कहा कि व्यापारियों की मांग पूरे बाजार खोलने की है और व्यापारी करोना के सभी नियमों का पालन भी करेंगे। लेकिन उनकी व्यापारियों से अपील है कि जो लोग व्यापारियों के धरने प्रदर्शन में शामिल नहीं हुए उनके बहकावे में ना आए। वह सिर्फ राजनीति चमका रहे हैं। उन्हें उम्मीद है कि सरकार व्यापारियों को और भी ज्यादा बेहतर तरीके से राहत देगी।

सरकार के आदेश आने तक नहीं खुल सकती प्रतिबंधित दुकानें : डीएसपी
डीएसपी सिटी लखबीर सिंह टीवाना ने कहा कि उनकी उच्च अधिकारियों से बातचीत हुई है। जब तक आदेश नहीं आते तब तक वह पूरी मार्केट खोलने की इजाजत नहीं दे सकते। सभी दुकानें नियमों के अनुसार खोलने की इजाजत थी।

खबरें और भी हैं...