हिस्सा लिया:जिला कानूनी सेवाएं अथॉरिटी बरनाला ने कोर्ट कांप्लेक्स में करवाया जागरुकता कार्यक्रम

बरनालाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • आंगनबाड़ी वर्कर, आशा वर्कर, पुलिस कर्मचारी व वकीलों ने लिया हिस्सा

जिला कानूनी सेवाएं अथॉरिटी की तरफ से नेशनल कमीशन फॉर वुमेन के सहयोग से महिलाओं के जागरुकता प्रोग्राम का आयोजन जिला कोर्ट कांप्लेक्स में किया गया। इस मौके पर मजिस्ट्रेट ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट सुचेता आशीष देव, रिटेनर वकील जिला कानूनी सेवा अथॉरिटी अनु शर्मा ने महिलाओं को संबोधित किया। यह प्रोग्राम जिला कानूनी सेवा अथॉरिटी की तरफ से पंजाब राज्य कानूनी सेवा अथॉरिटी के दिशानिर्देश के तहत जिला एवं सेशन जज व चेयरमैन जिला कानूनी सेवाएं अथॉरिटी वीरेंद्र अग्रवाल की अगुवाई में किया गया था। इस मौके पर आंगनबाड़ी वर्कर, आशा वर्कर, पुलिस कर्मचारी वकील साहिबा ने हिस्सा लिया।

संबोधित करते हुए ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट आशीष देव और रिटेलर वकील अनु शर्मा ने बताया कि महिलाओं को कानून की तरफ से विभिन्न प्रकार के विशेष अधिकार दिए गए हैं। इन अधिकारों की जानकारी होना महिलाओं को बहुत जरूरी है। इससे ही वह अपने अधिकारों के प्रति जागरूक होकर अपना हक ले सकती हैं। उन्होंने कहा कि जिला कानूनी सेवा अथॉरिटी की तरफ से अनुसूचित जाति, कबीले के मेंबर, मानसिक रोगी, अपंग जेल में बंद हवालाती और बच्चे, कुदरती आफत के मरे आदि लोग या जिनकी आमदनी 3‌लाख सालाना से कम है उन्हें मुफ्त में कानूनी सहायता प्रदान की जा सकती है। इसके साथ ही उन्होंने महिलाओं के भवन कानून जैसे एसिड अटैक के मुआवजे की रकम 3‌ लाख, एसिड अटैक से मौत होने से 5 लाख, मेडिकल खर्चे की 100% पूर्ति, बलात्कार पीड़ित को 3 लाख, दुष्कर्म के साथ कत्ल होने पर उसके परिवार को 4 लाख, नाबालिग के शरीर के शोषण के 2 लाख, मौत के केस के 2‌ लाख रुपए की सहायता का प्रावधान है। उन्होंने कहा कि सभी लोगों को अधिकारों की जानकारी होनी चाहिए। जिससे वह इस कानून का समय पर उपयोग कर सकें। इस मौके पर किरनप्रीत कौर मेंबर पंजाब वुमेन कमिशन ने भी ऑनलाइन होकर इस मीटिंग में हिस्सा लिया।

खबरें और भी हैं...