स्कूल का नाम शहीद पर रखा जाएगा:शहीद अमरदीप का सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार

बरनाला6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
शहीद अमरदीप सिंह को श्रद्धांजलि देते गांव के लोग। (दाएं) शहीद को सलामी देती सेना की टुकड़ी।                                        -भास्कर - Dainik Bhaskar
शहीद अमरदीप सिंह को श्रद्धांजलि देते गांव के लोग। (दाएं) शहीद को सलामी देती सेना की टुकड़ी। -भास्कर
  • सियाचिन में ग्लेशियर गिरने से शहीद हुए थे अमरदीप, कर्मगढ़ गांव के स्कूल का नाम शहीद पर रखा जाएगा

बरनाला जिले के गांव कर्मगढ़ का फौजी अमरदीप सिंह कुछ दिन पहले सियाचिन में ग्लेशियर गिरने से शहीद हो गया था। बुधवार को उसकी पार्थिव देह गांव पहुंचने पर सैन्य सम्मान के साथ अंतिम संस्कार कर दिया गया। शहीद को जिले के डीसी, एसडीएम, पुलिस अधिकारी, सिविल डिफेंस के डिप्टी डायरेक्टर और सेना ने श्रद्धांजलि दी। डीसी ने कहा कि गांव के स्कूल का नाम शहीद पर रखा जाएगा, जिसके लिए कागजी कार्यवाही पूरी की जाएगी।

गांव कर्मगढ़ के सरपंच बलवीर सिंह ने बताया कि उन्हें 3 दिन पहले सेना से सूचना मिली थी कि उनके गांव का जवान अमरदीप सिंह सियाचिन में शहीद हो गया है, जिसके बाद से पूरे गांव में शोक की लहर थी। आज सुबह करीब 11 बजे उसका पार्थिव शरीर सरकारी वाहन में गांव में लाया गया। इस वाहन पुष्पवर्षा की गई और इसके आगे सम्मान के तौर पर पुलिस की गाड़ियां लगाई गईं।

3 साल पहले ही ज्वाइन की थी आर्मी

सरपंच बलवीर सिंह ने बताया कि शहीद फौजी अमरदीप सिंह के पिता की मौत कुछ समय पहले हो गई थी। वह यहां अपने बुआ-फूफा के पास रहता था। यहीं पर उसने पढ़ाई पूरी की थी। गांव के ही स्कूल में 12वीं पास कर वह फौज में भर्ती हुआ था। 3 साल पहले ही उसने फौज ज्वाइन की थी। इस दौरान वह दो बार छुट्टी भी आया था। वह अविवाहित था। उसकी छोटी बहन दसवीं कक्षा में पढ़ती है। परिवार की आर्थिक हालत बेहद खराब है। पूर्व सैनिक बैंक के प्रधान इंजीनियर गुरजिंदर सिंह सिद्धू ने सरकार से सहायता राशि 50 लाख से बढ़ाकर एक करोड़ करने की मांग की।

50 लाख रुपए और एक परिजन को सरकारी नौकरी जल्द मिलेगी : डीसी

अंतिम संस्कार से पहले डिप्टी कमिश्नर तेज प्रताप सिंह फूलका, एसडीएम वरजीत सिंह वालिया, सेना की टुकड़ी ने शहीद अमरदीप सिंह को सलामी दी। इसके बाद गांव के सभी लोगों ने श्रद्धासुमन अर्पित किए। डीसी फूलका ने कहा कि प्रदेश सरकार की तरफ से 50 लाख की सहायता राशि जल्द ही परिवार को भेज की जाएगी और परिवार के एक व्यक्ति को सरकारी नौकरी दी जाएगी। प्रदेश सरकार शहीद अमरदीप सिंह के शहादत को हमेशा याद रखेगी।

खबरें और भी हैं...