धनौला / वेरिफिकेशन में कट गए नाम, जुड़वाने को 2 माह से सिर्फ लारे, विरोध में टंकी पर चढ़े

Names cut in verification, just got 2 months to join, climbed on tank in protest
X
Names cut in verification, just got 2 months to join, climbed on tank in protest

  • मार्च में 900 लोगों के कट गए थे नीले कार्ड से नाम, तबसे विरोध जारी

दैनिक भास्कर

May 24, 2020, 05:00 AM IST

धनौला. नीले कार्ड बनवाने की मांग को लेकर धनौला के कई लोग टंकी पर चढ़ गए। उनके समर्थन में बड़ी संख्या में महिलाओं सहित कई लोग धरने पर बैठ गए। पिछले 2 महीने से नीले कार्ड न बनने से परेशान लोगों ने प्रदेश सरकार के खिलाफ संघर्ष का एलान किया।

साथ ही उन्होंने कहा कि जब तक उनके नीले कार्ड नहीं बनते तब तक वह संघर्ष करेंगे। बताते चलें कि करीब 2 महीने पहले 13 मार्च को फूड सप्लाई विभाग की तरफ से नीले कार्ड की नई लिस्ट जारी हुई थी, जिसमें धनौला के करीब 900 लोगों के नीले कार्ड से नाम काट दिए गए थे। तब भी लोगों ने रोड जाम कर के बड़े स्तर पर धरना प्रदर्शन किया था। उसके बाद लगे कोरोना के कर्फ्यू के दौरान लोग शांत रहे। लेकिन एक बार फिर लॉकडाउन खुलते ही ने संघर्ष शुरू कर दिया। उन्होंने कहा कि वह जरूरतमंद हैं। 

गलत तरीके से उनके नीले कार्ड काटे गए हैं। जब तक उनके कार्ड नहीं बनते वह अपना संघर्ष इसी तरह से जारी रहेगा। धरने पर पहुंचे हलका बरनाला के आप विधायक विधायक मीत हेयर ने कहा कि प्रदेश में 36 लाख नीले कार्ड थे। जिनमें से अयोग्य करार देकर 32 लाख नीले कार्ड काट दिए गए। जिनमें से आठ हजार जिला बरनाला के थे। लेकिन 900 सिर्फ धनौला के थे। लेकिन जिन लोगों को अयोग्य करार दिया गया है। वह सभी अत्यंत अति गरीब मजदूर वर्ग से हैं। सरकार को इस तरफ ध्यान देना चाहिए। नहीं तो वह अपना संघर्ष तेज करेंगे।

जिला प्रशासन ने लॉकडाउन में सरकारी सहायता उपलब्ध नहीं कराई

धरना दे रहे सुखविंदर सिंह सतनाम सिंह काला सिंह महेंद्र सिंह परमजीत सिंह ने कहा कि जिन लोगों के कार्ड काटे गए हैं वह बेहद गरीब परिवारों से हैं। गरीब नीले कार्ड कटने के चलते लॉक डाउन के कारण उन्हें ना तो गेहूं आदि मिला और ना ही उन्हें दूसरी कर्फ्यू वाली सरकारी सहायता का राशन मिली। उन्होंने आरोप लगाया कि उनके लिए जो 900 थैली जिला प्रशासन की तरफ से भेजी गई थी। उसे भी कुछ लोगों ने गलत तरीके से बांट दिया। कर्फ्यू के दौरान बांटा जाने वाला सरकारी राशन भी नहीं पहुंचा।

कार्ड जल्द ही बन जाएंगे : तहसीलदार

मौके पर तहसीलदार हरबंस सिंह ने कहा कि जिन लोगों के कार्ड कार्ड दिए गए थे, फिर से बनाने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। नीले कार्ड के लिए ऑनलाइन अप्लाई किया जाता है। लॉकडाउन से ऑनलाइन अप्लाई करने का पोर्टल बंद था। उन्होंने कागजी कार्रवाई पूरी तरह से तैयार कर रही है। अब यह कार्ड जल्द ही बन जाएंगे।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना