रोष:डीसी कार्यालय के समक्ष दिया धरना, सीएम का मांगा त्यागपत्र

फाजिल्का19 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

प्रधानमंत्री की सुरक्षा में हुई चूक को लेकर भाजपाइयों में रोष है। इसके विरोध स्वरूप भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा डीसी कार्यालय के समक्ष धरना दिया गया और पंजाब सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की। वहीं अबोहर व जलालाबाद में एसडीएम दफ्तर के सामने तथा सीतोगुनो में तहसीलदार दफ्तर के सामने धरना दिया गया।

इस अवसर पर भारतीय जनता पार्टी के जिलाध्यक्ष राकेश धूड़िया और मंडलाध्यक्ष नरेंद्र अग्रवाल, सभी मोर्चों के मंडल अध्यक्ष आदि मौजूद रहे। भाजपा कार्यकर्ताओं का कहना है कि उनको फिरोजपुर में प्रधानमंत्री की रैली स्थल तक नहीं पहुंचने दिया गया और उनको किसानों के भेष में कुछ लोगों द्वारा रास्ते में ही रोक लिया गया।

इतना ही नहीं प्रधानमंत्री के सुरक्षा कवच में भी चूक की गई है जिसकी जिम्मेदार पंजाब सरकार है। जिलाध्यक्ष राकेश धूड़िया ने कहा कि प्रधानमंत्री की सुरक्षा में चूक हुई है, दूसरी ओर मुख्यमंत्री चन्नी बेतुके बयान दे रहा है कि मुझे पता नहीं था कि प्रधानमंत्री किस रास्ते से आ रहे हैं।

उन्होंने कहा कि यह कैसे हो सकता है कि मुख्यमंत्री हो और उसे यह पता न हो कि प्रधानमंत्री ने किस रूट से आना है। उन्होंने मांग की कि मुख्यमत्री को उनके ओहदे से बरखास्त किया जाए। मुख्यमंत्री को प्रोटोकॉल का ही नहीं पता कि वह देश के प्रधानमंत्री पंजाब में आ रहे हैं जो उनको रिसीव तक करने नहीं आया।

प्रधानमंत्री के साथ हुई घटना ने पूरी दुनिया मे पंजाब को शर्मसार किया है। पंजाब में व्यवसाय को रोकने के लिए कांग्रेस सरकार की सोची-समझी साजिश के तहत प्रधानमंत्री के रूट पर धरना लगवाया गया। पंजाब के मुख्यमंत्री को इस मामले में अब सफाई देने का कोई हक नहीं, बल्कि सीएम पद से त्यागपत्र देना चाहिए।

खबरें और भी हैं...