पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

कर्मचारियों से किया जा रहा धक्का:पदोन्नति से रिवर्ट किए अध्यापकों के समर्थन में आया मास्टर कैडर

फाजिल्का8 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • टीईटी सर्टिफिकेट की वैधता खत्म होने की बात कर रही सरकार

कुछ दिन पहले शिक्षा विभाग पंजाब द्वारा सरकारी स्कूलों मे कई वर्षों से कार्यरत नाॅन टीचिंग काडर एसएलए को उनकी उच्च शैक्षणिक योग्यता और टेट परीक्षा उत्तीर्ण करने के आधार पर मास्टर कैडर के पद पर पदोन्नत किया गया था, लेकिन कुछ दिन बाद पंजाब के अलग-अलग स्कूलों में पदोन्नत हुए नान टीचिंग दस सीनियर लेबोरेटरी अटेंडेंट्स को यह कहते हुए रिवर्ट कर दिया गया कि उनके टीईटी सर्टीफिकेट की वैधता खत्म हो गई है। जिसका खामियाजा रिवर्ट अध्यापक भुगत रहे हैं।

मास्टर काडर यूनियन के नेता हरमन्द्र सिंह दुरेजा, राजेश तनेजा, होशियार सिंह दरगन,आकाश डोडा आदि पदाधिकारियों ने शिक्षा विभाग के इस फैसले की कड़ी निंदा की व मांग की है कि केंद्र शिक्षा मंत्रालय के इस फैसले अनुसार मास्टर कैडर की पोस्ट पर दाेबारा, तुरंत हाजिर करवाया जाए। सदस्यों ने कहा कि अब तो केंद्र सरकार के शिक्षा मंत्रालय द्वारा भी गत 3 जून को बाकायदा केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश चंद्र पोखरियाल ने नोटिफिकेशन जारी करते हुए 2011 से ही सभी टीईटी पास सर्टीफिकेट की वैधता को लाइफ टाइम (आजीवन) कर दिया गया है, तो केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय के फैसले पर अब पंजाब का शिक्षा विभाग के उच्चाधिकारी तुरन्त अमल करें। उल्लेखनीय है कि इन अध्यापकों द्वारा अपनी नियुक्ति को वैध ठहराते हुए और हाईकोर्ट में भी विभाग के फैसले के खिलाफ अपने पदोन्नति के हक एवं न्याय प्राप्ति के लिए अपनी सिविल रिट भी दाखिल कर दी है।

खबरें और भी हैं...