नप का कारनामा:डेवेलपमेंट चार्जेज देने वाले तरस रहे व अवैध कब्जाधारकों के लिए बनाई जा रही सड़क

फाजिल्काएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाजिल्का के खटीका मोहल्ले के पीछे जंडवाला खरता रोड पर बनाई जा रही सड़क। - Dainik Bhaskar
फाजिल्का के खटीका मोहल्ले के पीछे जंडवाला खरता रोड पर बनाई जा रही सड़क।
  • जहां डाली जा रहीं इंटरलॉक टाइलें, वहां न सीवरेज और न ही डली वाटर सप्लाई पाइप

चुनावों का समय नजदीक आते ही विकास कार्य करवाने की हौड़ में नगर परिषद यह भी भूल गई कि जिस गली का वो निर्माण करवा रहे हैं उसी गली में नगर परिषद की खाली पड़ी बहु करोड़ी जमीन पर अवैध कब्जे करने वालों के विरुद्ध नगर परिषद ने एसडीएम की कोर्ट में केस दायर किया हुआ है।

इतना ही नहीं वोट बटोरने के इस भागमभाग में नगर परिषद अधिकारी यह भी भूल गए कि उक्त गली में न तो सीवरेज डाला गया है और न ही वाटर सप्लाई की पाइप, बस धड़ाधड़ सड़क का निर्माण कार्य पूरा करने की जल्दी है। जनता द्वारा टैक्स के रूप में दिए गए पैसे की किस कद्र बर्बादी की जा रही है यह उसका साक्षात प्रमाण है। क्योंकि जब कभी भी उक्त गली में रहने वाले लोगों को पानी व सीवरेज की समस्या उत्पन्न होगी तो फिर से उक्त सड़क को उखाड़कर सीवरेज व पानी की पाइपें डाली जाएंगी।

काटी गई कालोनियों की सड़कें न बनने पर रोष
वहीं दूसरी ओर नगर परिषद द्वारा शहर के विभिन्न भागों में काटी गई तीन कालोनियों जिनमें डाॅ. बलदेव प्रकाश, श्यामा प्रसाद मुखर्जी कालोनी व डा. हेडगेवार इत्यादि कालोनियों के प्लाट धारकों जिनमें शगुन लाल, सुमित कुमार, सुनील कुमार, अनूप कुमार, विनोद कुमार, अविनाश धूड़िया, विशाल सचदेवा इत्यादि में नगर परिषद के विरुद्ध इसलिए रोष पाया जा रहा है क्योंकि उनके द्वारा डिवेल्पमेंट चार्जेस देने के बावजूद दो दशकों बाद भी सड़कों का निर्माण नहीं किया गया है।

सड़क का टेंडर 2014 में पास हुआ था : एसओ
उक्त मामले संबंधी जब नगर परिषद के एसओ से बात की गई तो उनका कहना था कि लोग झूठ बोल रहे हैं, क्योंकि पानी व सीवरेज के पाइपें डाले बिना सड़क का निर्माण हो ही नहीं सकता। जब उनसे पूछा गया क्या इस सड़क का टेंडर हुआ है तो उनका कहना था कि यह तो वर्ष 2014 में ही पास हुए काम का शेष हिस्सा है। बाकी आपने इस बाबत कोई और बात करनी हो तो मेरे उपर के बड़े अधिकारियों से बात कर लें।

सीवरेज संबंधी एस्टीमेट पास करवा लिया है व टेंडर लगा दिया है : ईओ​​​​​​​
उक्त बन रही सड़क संबंधी जब नगर परिषद के ईओ रजनीश कुमार गिरधर से बात की गई तो उनका कहना था कि हमने सीवरेज संबंधी एस्टीमेट पास करवा लिया है तथा अभी सीवरेज विभाग को पैसे भेज देते हैं। उन्होंने टेंडर लगा दिया है। जब उनसे यह सवाल किया गया कि आपने जिन कब्जाधारकों के विरुद्ध एसडीएम कोर्ट में केस दायर कर रखा है उसी गली का निर्माण करवा रहे हैं तो ईओ का कहना था कि शहर का विकास करवाना तो नगर परिषद का फर्ज है। इस उपरांत ईओ का कहना था कि आप इतनी टेंशन न लिया करें।

खबरें और भी हैं...