रोष:काटे राशन कार्डों के विरोध में आम आदमी पार्टी ने डीसी दफ्तर के समक्ष किया प्रदर्शन

मुक्तसरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • चेतावनी- यदि काटे राशन कार्डों को बहाल न किया तो राज्यभर में देंगे धरने
  • राज्य सरकार के नाम प्रशासन को सौंपा मांगपत्र

आम आदमी पार्टी एससी विंग जिला मुक्तसर द्वारा जिलाध्यक्ष सतपाल सिंह फतूहीखेड़ा की अध्यक्षता में बगैर किसी मापदंड के पूरे राज्य के लाखों लाभार्थियों के काटे गए राशन कार्ड के विरोध में प्रदर्शन किया गया। इस दौरान प्रदर्शनकारियों ने कोरोना महामारी के दौरान किए गए राशन बांट में भेदभाव संबंधी स्थानीय मुक्ता ए मीनार पार्क में एकत्रित होकर रोष मार्च निकालते हुए डीसी कार्यालय के समक्ष नारेबाजी कर रोष जताया।  इस अवसर पर जिलाध्यक्ष जगदेव सिंह बांम, हलका प्रधान जगदीप सिंह काका बराड़, हलका प्रधान मलोट जश्न बराड़ लक्खेवाली, हलका प्रधान गिद्दड़बाहा इकबाल सिंह खिडकियांवाला, लंबी हलका प्रधान कारज सिंह मिड्डा आदि उपस्थित थे। प्रदर्शन के दौरान राज्य सरकार के नाम प्रशासन को मांगपत्र सौंपा गया। प्रदर्शन को संबोधित करते विभिन्न वक्ताओं ने कहा कि बगैर किसी मापदंड के पूरे राज्य के लाखों लाभार्थियों के काटे गए राशन कार्ड तथा चल रही कोरोना महामारी दौरान की गई राशन बांट प्रणाली में भेदभाव को लेकर लोगों में भारी रोष पाया जा रहा है।  उन्होंने कहा कि इस मुश्किल की घड़ी में सरकार को प्रत्येक जरूरतमंद गरीब व दलित परिवार की बाजू पकड़नी चाहिए थी तथा उनको जरूरत अनुसार राशन की होम डिलीवरी करनी चाहिए थी परन्तु ऐसा न करके सरकार ने सभी कल्याणकारी योजनाओं का कांग्रेसीकरण कर दिया।

उन्होंने कहा कि गरीबों व जरूरतमंदों की ऐसी चुनौती भरे हालातों में किस तरह मदद करनी चाहिए वह दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से सीखने की जरूरत है।  उन्होंने कहा कि साढ़े तीन वर्ष बीत चुके हैं परन्तु सरकार ने पंजाब की जनता के साथ किए वादे निभाने की तरफ कोई कदम नहीं उठाया, बुजुर्ग, विधवा व अपाहिज लोग वादे अनुसार 2500 रुपए पेंशन व योग दलित परिवार को 5-5 मरलों के प्लाटों को तरस रहे है।  उन्होंने चेतावनी दी कि यदि सरकार ने उक्त मांगों की तरफ ध्यान न दिया तो आने वाले समय में संघर्ष को ओर तेज किया जाएगा। इस मौके पर दिलबाग सिंह बराड़, सिमरनजीत सिंह, जसविंदर सिंह बराड़, सतपाल सिंह लंबी, इंद्रजीत सिंह, कुलवंत सिंह, मनवीर खुड्डिया, गुरमीत राडि़्या, कुलविंदर सिंह, गुरविंदर सिंह, चौधरी कृष्ण लाल, अमरधीर सिंह मान, गुरनिंदर सिंह गांधी, अमर सिंह, जसपाल सिंह काली, गुरजिंदर सिंह समरा, परमजीत सिंह, रमेश अरनीवाला, गगनदीप सिंह, गुरमीत सिंह भुट्टीवाला, हरमेल सिंह कोटली, डा. गुरमीत सिंह समाघ आदि मौजूद थे।

खबरें और भी हैं...