पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

सियासी कांफ्रेंस बंद:माघी मेले में होने वाली शिअद की कांफ्रेंस रद, किसान आंदोलन की सफलता के लिए 12 को डाले जाएंगे भोग

जसकरन बराड़| मुक्तसर13 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • अन्य पार्टियों ने 2017 में ही मेले में सियासी कांफ्रेंस करना बंद कर दिया था लेकिन अकाली लगातार करते आ रहे थे

किसान आंदोलन के चलते माघी मेले पर प्रत्येक वर्ष शिरोमणि अकाली दल की ओर से की जाने वाली सियासी कांफ्रेंस इस वर्ष रद कर दी गई है और पार्टी की ओर से सिर्फ एक धार्मिक समागम करवाया जाएगा।

हालांकि शिअद ने किसान आंदोलन की हिमायत व जीत की अरदास के लिए सियासी कांफ्रेंस को रद करना बताया है, परंतु सूत्रों की माने तो अकाली दल की ओर से कांफ्रेंस रद करने के पीछे किसानों के दिल्ली बॉर्डर पर आंदोलन पर गए होने के कारण माघी मेले की सियासी कांफ्रेंस में कम इकट्ठा होने का अंदेशा है और दूसरा कहीं किसान यूनियन भी इस कांफ्रेंस का विरोध कर उनके कार्यक्रम में बांधा न डाल दें, इसलिए अकाली दल ने सियासी कांफ्रेंस न करने का फैसला कर लिया।

शिअद को डर-किसान कांफ्रेंस का विरोध न करें

सियासी कांफ्रेंस रद करने के बारे में पूछे जाने पर अकाली दल के जिला प्रधान व मुक्तसर से विधायक कंवरजीत सिंह रोजी बरकंदी ने बताया कि इस वर्ष दिल्ली में चल रहे किसान आंदोलन को ध्यान में रखते हुए शिरोमणि अकाली दल के प्रधान सुखबीर सिंह बादल ने फैसला किया है कि सियासी कांफ्रेंस न कर किसान आंदोलन की सफलता के लिए अखंड पाठ के भोग डाल अरदास की जाए, गुरुद्वारा तंबू साहिब में 10 जनवरी को श्री अखंड पाठ साहिब प्रकाश करवाए जाएंगे और 12 जनवरी को अखंड पाठ साहिब के भोग डाले जाएंगे।

इस उपरांत भाई महा सिंह दीवान हाल में किसान आंदोलन की जीत के लिए अरदास की जाएंगी और आंदोलन में शहीद हुए किसानों को श्रद्धांजलि भेंट दी जाएगी। रोजी बरकंदी ने बताया कि 12 जनवरी के इस समागम में पार्टी प्रधान सुखबीर सिंह बादल व शिरोमणि अकाली दल के सीनियर नेता भी शामिल होंगे।

दूसरी पार्टियां पहले ही बंद कर चुकी हैं कांफ्रेंस

श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार की ओर से शहीदी जोड़ मेलों पर सियासी कांफ्रेंस न करने की अपील के चलते कांग्रेस पार्टी व आम आदमी पार्टी ने 2017 के बाद माघी मेले पर कोई सियासी कांफ्रेंस नहीं की ,परंतु शिरोमणि अकाली दल प्रत्येक वर्ष माघी मेले पर अपनी सियासी कांफ्रेंस करता है जिसका एक कारण बादल परिवार का यह पैतृक जिला होना भी है।

आंदोलन के चलते फीकी रहेगी मेले की रौनक

मेला 10 जनवरी से लेकर 31 जनवरी तक चलता है, जहां हर रोज हजारों लोग इस मेले में दरबार साहिब में नतमस्क होने के साथ-साथ मनोरंजन मेले में भी शामिल होते हैं, वहीं देश के दूसरे राज्यों से क्रॉकरी, घरेलु वस्तुओं, खजला मिठाई अन्य दुकानदार भी महीना भर यहां अपने रोजगार के लिए आते हैं, परंतु किसान आंदोलन ने इस बार मेले की रौनक फीका कर दिया है।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कोई लाभदायक यात्रा संपन्न हो सकती है। अत्यधिक व्यस्तता के कारण घर पर तो समय व्यतीत नहीं कर पाएंगे, परंतु अपने बहुत से महत्वपूर्ण काम निपटाने में सफल होंगे। कोई भूमि संबंधी लाभ भी होने के य...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser