बैठक:नशा छुड़ाओ केंद्र और रिहैबिलिटेशन सेंटर के कर्मी 15 अगस्त को गुलामी दिवस के तौर पर मनाएंगे

फिरोजपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बैठक में भाग लेते हुए नशा छुड़ाओ केंद्र के कर्मचारी । - Dainik Bhaskar
बैठक में भाग लेते हुए नशा छुड़ाओ केंद्र के कर्मचारी ।
  • मांगें पूरी नहीं करने के रोष में नशा छुड़ाओ केंद्र के कर्मचारियों ने लिया फैसला

नशा छुड़ाओ केंद्र, रिहैबिलिटेशन सेंटर व ओओएटी क्लीनिकों के कर्मचारी की बैठक निजी संस्थान में हुई। बैठक में कर्मचारियों ने मांगें सरकार की ओर से पूरी न किए जाने के विरोध में संयुक्त रूप से 15 अगस्त को गुलामी के तौर पर मनाने का फैसला लिया। बैठक के दौरान यूनियन कर्मियों ने कहा कि बेशक 1947 को हम अंग्रेजों की गुलामी से आजाद हो चुके हैं मगर समय की सरकारों ने हमें फिर से गुलाम बना दिया है। एक ओर महंगाई पैर पसार रही है वहीं मुलाजिमों को नाममात्र सैलरी दी जा रही है।

हर विभाग के मुलाजिम अपने हक को लेकर हड़तालें, जलूस व धरनों पर बैठे हैं मगर सरकार के कानों तले जूं तक नहीं रेंग रही। कैप्टन सरकार ने जो नशा मुक्त पंजाब का सपना देखा था उसे इन केंद्रों के मुलाजिमों ने सफल बनाने में अहम भूमिका अदा की। कोरोना के चलते कोविड केयर सेंटरों, आईसोलेशन सेंटरों में कर्मियों ने निस्वार्थ सेवाएं दी हैं।

उन्होंने कहा कि वह अपनी मांगों को लेकर कई बार स्वास्थ्य मंत्री पंजाब बलवीर सिंह सिद्धू, प्रमुख सचिव सेहत पंजाब, डायरेक्टर सेहत व परिवार भलाई विभाग चंडीगढ़ के साथ मीटिंग कर चुके हैं मगर अब तक निराशा के अलावा कुछ हाथ नहीं लगा है। डी एडिक्शन यूनियन के जिला प्रधान राजबीर सिंह ने कहा हमारी कोई सुनवाई नहीं हो रही है। उन्होंने चेतावनी देते कहा कि आगामी चुनावों में वे अपने वोटों का प्रयोग अपने अनुसार करेंगे।

खबरें और भी हैं...