विरोध:कृषि अध्यादेशों पर किसान-मजदूरों ने केंद्र सरकार को घेरा डीजल-पेट्रोल पर शिअद वर्करों ने राज्य सरकार को कोसा

फिरोजपुरएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • गुरु हरसहाए में किया प्रदर्शन, 21 को हरसिमरत कौर बादल के घर का घेराव करने का एलान, किसान-मजदूर बोले देश में लगा रखी है अघोषित इमरजेंसी

मंगलवार को कस्बा गुरु हरसहाए की अनाजमंडी में किसान मजदूर संघर्ष कमेटी के बैनर तले सैकड़ों किसानों व मजदूरों ने केंद्र की ओर से खेती में सुधार के लिए पास किए आर्डिंनेंस के विरोध में जमकर प्रदर्शन किया। इस मौके सैकड़ों की संख्या में एकत्रित हुए किसानों, मजदूरों व महिलाओं में से किसी ने भी मास्क नहीं पहना था व न ही सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखा।

कोरोना वायरस महामारी से बचाव को लेकर स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी हिदायतों की प्रदर्शनकारियों की ओर से जमकर धज्जियां उड़ाई गईं। किसान नेताओं ने कहा कि अकाली भाजपा गठबंधन की केंद्र सरकार की तरफ से एक देश एक मंडी बनाने के लिए विश्व व्यापार संस्था के दबाव में खेती सुधारों के नाम पर पास किए गए तीनों ही आर्डीनेंस व बिजली संशोधन बिल 2020 के विरोध में प्रदेश कमेटी के फैसले पर आज किसानों मजदूरों और महिलाओं की ओर से दाना मंडी में जलसा कर शक्ति प्रदर्शन किया।  इसके बाद शहर में रोष मार्च करते हुए एसडीएम कार्यालय के समक्ष प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर का पूतला फूंका। कार्यक्रम की अध्यक्षता जोन प्रधान धर्म सिंह सिद्धू, नरिन्दरपाल सिंह जताला, गुरनाम सिंह अली के झुग्गियां, गुरबख्श सिंह पंजगराईं के अध्यक्षीय मंडल ने की।

इस मौके लोगों को संबोधित करते हुए प्रदेशाध्यक्ष सतनाम सिंह पन्नू, महासचिव श्रवण सिंह पंधेर, जसबीर सिंह पिदी, सुखविंद्र सिंह सभरा, इन्द्रजीत सिंह कलीवाला, बलजिंद्र सिंह तलवंडी नेपालां, सुरिंद्र सिंह फाजिल्कां ने ऐलान किया कि 21 जुलाई को केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल के घर का घेराव करने के लिए हजारों किसान मजदूर व महिलाएं गांव बादल जाएंगे। किसान नेताओं ने कहा कि विशव व्यापार संस्था के दबाव में निजीकरण, उदारीकरण की नीतियाें के अंतर्गत हरेक विभाग को कॉर्पोरेट जगत के हवाले करने के लिए मोदी सरकार ने कोविड -19 की दीवार तले सभी कायदे कानून छीके टांग दिए हैं और पार्लियामेंट में विचार चर्चा करने की जगह आर्डिनेंस का सहारा ले रही है।

देश में विरोध की आवाज को दबाने के लिए अघोषित इमरजेंसी लगा रखी है। कोयला खान, रेलवे, एलआईसी, रक्षा स्कूल, अस्पताल, देश की 7 हजार खेती मंडियों को निजी कंपनियों के हवाले किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि ऐसे खेती सुधार से पंजाब के किसान बुरी तरह बर्बाद हो जाएंगे और पंजाब की आर्थिक स्थिति भी तबाह हो जाएगी।  मंडी फीस से पंजाब सरकार को आ रही 4 हजार करोड़ रुपए की आमदन बंद होने से पहले से ही कर्जे के बोझ तले दबी सरकार ओर बुरी स्थिति में फंस जाएगी। इस मौके मंगल सिंह, मेजर सिंह, गुरदयाल सिंह, मंगल सिंह, सुखविन्दर सिंह बुर्ज,जसवंत सिंह शरीह वाला, मक्खण सिंह, गुरदीप सिंह थांदेवाला व बीबी परमजीत कौर जोए सिंह वाला ने भी संबोधित किया।

फिरोजपुर, मल्लांवाला, गिद्दड़बाहा में धरना-प्रदर्शन; स्कूल फीस माफ करने व काटे कार्ड दाेबारा बनाने की मांग

पेट्रोल-डीजल, आटा-दाल स्कीम के तहत कार्डधारकों के काटे गए कार्ड, बिजली बिल माफ करने और स्कूल फीस आदि मसलों को लेकर शिराेमणि अकाली दल के नेताओं-कार्यकर्ताओं ने मंगलवार काे फिराेजपुर और मुक्तसर जिलाें में कई जगहाें पर सड़कों पर उतरकर कांग्रेस नीत राज्य सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। अकाली नेताओं ने कहा कि यह सरकार जनता के साथ धक्केशाही कर रही है। पूरे प्रदेश में सरकार का पोल-खोल रोष मार्च छावनी के विभिन्न बाजारों में निकालकर पोल खोली गई।

केंद्र सरकार पेट्रोल-डीजल को सीमित भाव पर उपलब्ध करवा रही है, लेकिन सूबा सरकार इन पर 44 प्रतिशत टैक्स लगाकर, महंगाकर लोगों को परेशान कर रही है। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन के चलते केंद्र सरकार ने जरुरतमंद लोगों काे देने के लिए राशन की किटें राज्य सरकार काे दी थी, लेकिन कांग्रेस नेताओं ने सिर्फ 5 प्रतिशत राशन और वह भी अपने चहेतों को ही दिया। लॉकडाउन के चलते स्कूल नहीं खुले और स्कूल में पढ़ने वाले हर वर्ग के बच्चाें के माता-पिता के कामकाज ठप पड़े थे।

इसलिए सरकार काे सभी स्कूलों में पढ़ने वाले हर वर्ग के बच्चों की फीस माफ करनी चाहिए। इसके अलावा नीले कार्डधारकों के काटे गए कार्डों को वह दोबारा बनवाए, ताकि हर किसी को मिलने वाली सहूलियत मिल सके। बिजली बिल भी माफ करे। इस अवसर पर फिरोजपुर शहरी व ग्रामीण हलके के कार्यकर्ता मौजूद रहे। मल्लांवाला नगर पंचायत के अलग-अलग वार्डों में भी प्रदर्शन किया गया। इस मौके पर जत्थेदार बलविंदर सिंह, जसपाल सिंह, अशोक  कुमार, आदि प्रदर्शन में शामिल थे। इस बीच चिंता की बात यह रही कि इन प्रदर्शनाें में सोशल डिस्टेंसिंग का खयाल नहीं रखा, जबकि कोरोनावायरस के केस बढ़ते ही जा रहे हैं। पुलिस मौन बनी रही। मुक्तसर जिले के गिद्दड़बाहा में पार्टी की सियासी मामलाें की समिति के सदस्य हरदीप सिंह डिम्पी ढिल्लों के नेतृत्व में स्थानीय सट बाजार में धरना दिया गया। इसमें शिअद कोर कमेटी के सदस्य व पूर्व सांसद जगमीत सिंह बराड़ ने विशेष तौर पर शिरकत की। इन दोनों नेताओं ने राज्य सरकार से डीजल-पेट्रोल पर वैट घटाने की मांग की।

इस मौके पर जिला शहरी प्रधान अमित कुमार शिंपी बांसल, अशोक कुमार बुट्टर नगर कौंसिल के पूर्व प्रधान जसवंत सिंह सिद्धू, एडवोकेट गुरमीत सिंह मान, राजू थराजवाला, सुनील कुमार, सुभाष जैन लिल्ली, शाम सुंदर छिन्दी, बलराज ढिल्लों, रैस्टी रंधावा, नीरज कुमार काला साहिबचन्द, हरविन्दर काका, नवीन मित्तल, वरिंदर गोगी, मोंटू शर्मा, विवेक मोनी, बलजीत चीना, माधो दास सिंह, पूर्ण चंद, बिट्टू दुग्गल, कुक्कू नंबरदार, जगतार सिंह धालीवाल, कुलभूषण शर्मा, सतपाल मान और राज कुमार आदि भी उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...