धर्म-कर्म:दिव्य ज्योति जागृति संस्थान के फिरोजपुर आश्रम में आयोजित सत्संग में बताई धर्म की महत्ता

फिरोजपुरएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मनुष्य धर्म को न जानकर दुख प्राप्त करता है- साध्वी दीपिका

दिव्य ज्योति जागृति संस्थान के फिरोजपुर आश्रम में सत्संग प्रोग्राम का आयोजन किया गया। इस अवसर पर श्री आशुतोष महाराज की परम शिष्या साध्वी दीपिका भारती ने बताया कि मनुष्य धर्म को न जानकर दुख को प्राप्त कर रहा है। इंसान धार्मिक ग्रंथों के अनुसार धर्म को जानने की कोशिश नहीं करता और अपनी मन-मती के अनुसार धर्म की व्याख्या करता है। इस कारण वह दुखों का भागी बनता है। समय-समय पर संत महापुरुष धर्म को जानने हेतु इस धरा पर अवतरित होते रहे हैं।

साध्वी ने बताया कि धार्मिक ग्रंथों के अनुसार धर्म को जानकर संसार के सुखों के साथ-साथ उससे सच्चे सुख की प्राप्ति भी की जा सकती है, जिसके लिए मनुष्य संसार में जन्म लेता है वह परमात्मा को जानना। उन्होंने बताया कि पूर्ण संत महापुरुष की शरणागत होकर उस ईश्वर को जाना जा सकता है। ईश्वर एक है और उसको पाने का रास्ता भी एक ही है, जो धार्मिक ग्रंथों के अनुसार संत महापुरुष की शरण में आकर ही प्राप्त किया जा सकता है। इसलिए आवश्यकता है कि मनुष्य जो इस धरा पर जन्म लेता है। अपने असली मनोरथ को जानने और ईश्वर की प्राप्ति के लिए पूर्ण सतगुरु की खोज कर उनकी शरण प्राप्त करें और अपना जीवन सफल करें। अंत में आई हुई संगत को प्रसाद का वितरण किया गया।

खबरें और भी हैं...