टीकरी बॉर्डर पर हार्ट अटैक से किसान की मौत:26 नवंबर 2020 से आंदोलन से जुड़ा था मुक्तसर का जसविंदर, एक साल से नहीं गया था घर

मुक्तसर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मृतक किसान जसविंदर सिंह नंदगढ़। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
मृतक किसान जसविंदर सिंह नंदगढ़। (फाइल फोटो)

टीकरी बॉर्डर पर पंजाब के मुक्तसर निवासी किसान की हार्ट अटैक से मौत हो गई। किसान की पहचान जसविंदर सिंह निवासी नंदगढ़ के तौर पर हुई है। जसविंदर सिंह 25 नवंबर 2020 को ही दिल्ली बॉर्डर पर आंदोलन में शामिल हो गया था। तब से लगातार आंदोलन से जुड़ा हुआ था। इस एक साल में जसविंदर सिंह घर नहीं लौटा।

नानक सिंह ने बताया कि उसका दोस्त जसविंदर सिंह नंदगढ़ 26 नवंबर 2020 से कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली सीमा पर चल रहे आंदोलन से जुड़ा हुआ था। जसविंदर उस दिन से लगातार टीकरी बॉर्डर पर ही मौजूद था।एक साल के दौरान वह लौटकर घर नहीं गया। जसविंदर का कहना था कि जब 3 कृषि कानून रद्द होंगे तो उसके बाद ही वह गांव लौटेगा।

मृतक किसान जसविंदर सिंह नंदगढ़। (बीच में)
मृतक किसान जसविंदर सिंह नंदगढ़। (बीच में)

शुक्रवार को प्रधानमंत्री ने 3 कृषि वापस लेने का ऐलान किया और शाम को करीब 4 बजे जसविंदर की टीकरी बॉर्डर पर हार्टटैक से मौत हो गई। उसके शव को बहादुरगढ़ के सिविल अस्पताल में रखा गया है, पोस्टमार्टम के बाद शव को गांव लाकर अंतिम संस्कार किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि मृतक किसान जसविंदर सिंह के 3 बच्चे हैं। इनमें एक बेटा और एक बेटी का विवाह हो चुका है। छोटा बेटा अभी अविवाहित है।

खबरें और भी हैं...