महिला शक्ति:छोटी उम्र में ही छूटी पढ़ाई, शादी के बाद दोबारा पढ़ीं, मेहनत से भूपिंदर कौर लेक्चरर से बनीं लोक अदालत की सदस्य

मुक्तसर9 महीने पहलेलेखक: जसकरन बराड़
  • कॉपी लिंक
  • कुदरत ने हर महिला को असीम ताकत दी है, जरूरत है उसे पहचानने की व आगे चलने की : भूपिंदर कौर प्रीत

आज हर क्षेत्र में महिलाओं ने अपना नाम बना लिया है चाहे वह शिक्षा का क्षेत्र हो, राजनीति हो, सामाजिक हो या खेल क्षेत्र हो। बहुत से स्थानों पर तो पुरुषों से आगे महिलाएं चल रही हैं। ऐसी ही महिलाओं में शामिल हैं भूपिंदर कौर प्रीत, जोकि इस समय मुक्तसर की लोक अदालत की सदस्य हैं। आज महिला दिवस पर उनसे बातचीत करके उनके बारे में जाना तो उन्होंने बताया कि जब उन्होंने होश संभाला तो वह सैनिक स्कूल (करनाल) की धरती पर थी। छोटी आयु में ही मल्लन (मुक्तसर) में शादी हो गई और पढ़ाई छूट गई।

10वीं तक ही पढ़ाई की थी परंतु कविता मेरे साथ ही आ गई थी व संघर्ष का लंबा सफर साथ ही था। विवाह के 12 साल बाद पढ़ाई फिर शुरू की और एमए तक पढ़ाई की फिर राजेन्द्रा कॉलेज बठिंडा में 2 साल लैक्चरार के तौर पर काम किया। इसके बाद फिर लंबा संघर्ष 25 साल बुटीक का काम व वस्त्रों पर पेंटिंग का काम किया। 2008 से 2018 तक उपभोक्ता फोरम मोगा में बतौर मेंबर सेवाएं दी। 2019 से 2021 तक कार्यकारी चेयरमैन परमानेंट लोक अदालत तरनतारन में काम करने के पश्चात आखिर अपने ही शहर मुक्तसर में परमानेंट लोक अदालत के मेंबर के तौर पर सेवा करने का मौका मिला है।

इनकी लिखी किताबों पर की जाती है पीएचडी

उन्होंने कहा कि मैं इतना कहना चाहती हूं कि कुदरत ने हर महिला को असीम ताकत दी है जरूरत है उसे पहचानने की व आगे चलने की। जीवन में परेशानियों से घबराने की बजाए उनको चेलेंज जैसे लेना चाहिए और अपनी पूरी ताकत को अपने काम के प्रति समर्पित कर देना चाहिए। भूपिंदर कौर ने कुछ किताबें भी लिखी हैं और कुछ ट्रांसलेट की हैं। उनकी ओर से लिखी किताबों पर कुछ विद्यार्थी पोईट्री एमफिल, पीएचडी कर रहे हैं।

अब तक मिल अवार्ड

भूपिंदर कौर प्रीत को लुधियाना में 1996 में करतार सिंह सुमेर अवार्ड, बरनाला 2003 में सरदारनी हरलाभ कौर अवार्ड, 2005 में ढूडीके ट्रस्ट सम्मान (बलराज साहनी) अवार्ड, लुधियाना 2006 में शहीद भगत सिंह अवार्ड, जालंधर 2010 में पंकज अकैडमी अवार्ड, नरवाना 2010 में साहित्य गौरव सम्मान, 2014 में मुमताज कवि अवार्ड, 2013 में स्कोट लीडर्स मनोहर लाल मोंगा अवार्ड मिला है।

खबरें और भी हैं...