पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Bathinda
  • Firozpur
  • Only 10 Units Of Blood Stores In The Blood Bank With A Capacity Of 600 Units In The Civil Hospital, The Machine To Remove Platelets Is Defective For 15 Days

स्वास्थ्य:सिविल अस्पताल में 600 यूनिट की क्षमता वाले ब्लड बैंक में मात्र 10 यूनिट रक्त स्टोर, प्लेटलेट्स निकालने वाली मशीन 15 दिनों से खराब

फिरोजपुर12 दिन पहलेलेखक: कपिल सेठी
  • कॉपी लिंक

डेंगू का सीजन शुरू है, वहीं 10 लाख से अधिक आबादी वाले जिले में लोगों को आपात स्थिति में रक्त मुहैया करवाने वाले एक मात्र सिविल अस्पताल में स्थित ब्लड बैंक में रक्तदाताओं की कमी से रक्त का अभाव हो चुका है। 600 यूनिट की क्षमता वाले ब्लड बैंक में मात्र 10 यूनिट रक्त स्टोर होने सेे ब्लड लेने के लिए पहुंचने वाले लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। ब्लड बैंक में बीते 15 दिनों से प्लेटलेट्स व प्लाजमा निकालने वाली मशीन खराब है। वहीं अब इमरजेंसी में ब्लड की जरूरत पड़ने पर बैंक कर्मियों द्वारा मजबूरन रिप्लेसमेंट ब्लड की डिमांड की जा रही है ताकि ब्लड यूनिट की क्षमता को मेंटेन रखा जा सके।

रोज 20 से 25 लोग रक्त लेने पहुंचते हैं
सिविल अस्पताल स्थित इस ब्लड बैंक में प्रतिमाह 500 से 600 यूनिट रक्त की खपत होती है। रोजाना 20 से 25 लोग रक्त लेने के लिए ब्लड बैंक में पहुंचते हैं मगर डोनेट के लिए अब इका-दुक्का रक्तदाता ही पहुंच रहे हैं। यही कारण है ब्लड बैंक में रक्त की कमी खलने लगी है। ब्लड बैंक स्टाफ का कहना है कि वह नहीं चाहते कि मजबूरी में ब्लड लेने के पहुंचने वाले लोगों को रिप्लेसमेंट ब्लड देने के लिए कहा जाए मगर डोनरों की कमी के चलते मजबूरन रिप्लेसमेंट ब्लड की डिमांड की जा रही है । वहीं उन्होंने कहा कि जिन केसों में बहुत ज्यादा जरूरी लगता है उन्हें पहले की तरह बिना रिप्लेसमेंट ब्लड दिए रक्त मुहैया करवाया जा रहा है ताकि मरीज की जान बचाई जा सके। परंतु अब रक्त की कमी आने से रक्त के बदले ही लोगों को रक्त दिया जा रहा है।

ब्लड बैंक में 100 यूनिट रक्त होना जरूरी

ब्लड बैंक में 3 माह से रक्तदाताओं को रिफ्रेशमेंट नहीं दी जा रही है। रक्तदान करने के लिए वहां पहुंचने वाले रक्तदाताओं के लिए अब विभिन्न समाजसेवी संस्थाएं अपने स्तर पर ही रिफ्रेशमेंट की व्यवस्था कर रही हैं। एक रक्तदान करने वाली संस्था के सदस्यों ने बताया कि करीब 3 माह से ब्लड बैंक में रिफ्रेशमेंट नहीं दी जा रही है। जब भी किसी मरीज को ब्लड की जरूरत पड़ती है तो वह अपने स्तर पर डोनर उपलब्ध करवाते हैं व ब्लड बैंक में रक्तदान के लिए भेजते हैं मगर वहां उन्हें रिफ्रेशमेंट तक नहीं दिए जाने के चलते रिफ्रेशमेंट भी वह अपने स्तर पर उपलब्ध करवा रहे हैं।

वहीं अगर ब्लड बैंक में लगाए गए फ्रिजों की क्षमता की बात करें तो उनमें 600 यूनिट रक्त संग्रहित करने की क्षमता है। स्टॉफ का मानना है कि किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए ब्लड बैंक में कम से कम 100 यूनिट रक्त का संग्रहण जरूरी है जोकि आपात स्थिति में एकाएक उपयोग किया जा सके। मगर मौजूदा हाल की बात करें तो मात्र 10 यूनिट की रक्त का ब्लड बैंक में संग्रहण है जोकि किसी भी आपात स्थिति से निपटने के लिए नाकाफी है।

एनजीओ और समाजसेवी संस्थाओं से कर रहे हैं संपर्क
ब्लड कैंप लगाने के लिए विभिन्न एनजीओ व समाजसेवी संस्थाओं से संपर्क किया जा रहा है उनसे अनुरोध किया जा रहा है कि वह वालंटियरों को रक्तदान के लिए प्रोत्साहित कर ब्लड बैंक में भेजें इसके साथ ही रिफ्रेशमेंट नहीं दिए जाने के सवाल पर उन्होंने कहा कि ब्लड बैंक के रिकॉर्ड को मेंटेन किया जा रहा है जिसके चलते कुछ समस्या आ रही है व रिफ्रेशमेंट नहीं लाई जा रही है जिसे जल्द शुरू किया जाएगा।
-ब्लड ट्रांसफ्यूजन अधिकारी दिश्विन बाजवा

खबरें और भी हैं...