पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

श्री कृष्ण गोपाष्टमी:टिब्बी साहिब गौशाला में कल मनाई जाएगी श्रीकृष्ण गोपाष्टमी, गायों का होगा पूजन

मुक्तसर7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

श्री कल्याण कमल आश्रम हरिद्वार के अनंत श्री विभूषित 1008 महामंडलेश्वर स्वामी कमलानंद गिरि जी महाराज की अध्यक्षता में श्रद्धालुओं की ओर से 22 नवंबर को श्री कृष्ण गोपाष्टमी धूमधाम एवं हर्षोल्लास के साथ मनाई जाएगी।

प्रवक्ता हंसराज दाबड़ा व नत्थू राम गोयल ने बताया कि इस दिन सुबह पांच बजे श्रद्धालु महामंडलेश्वर स्वामी जी की अध्यक्षता में श्री राम भवन में प्रभातफेरी के रुप में टिब्बी साहिब रोड स्थित गौशाला पहुंचेंगे। जहां स्वामी जी के नेतृत्व में गायों का पूजन होगा। वहीं गायों को हरा चारा व गुड़ आदि खिलाया जाएगा। प्रवक्ता रमन जैन ने श्रद्धालुओं से समय पर गौशाला जाने के लिए श्री राम भवन पधारने की अपील करते हुए बताया कि गौशाला से लौटकर श्री राम भवन में कार्तिक महोत्सव तहत स्वामी कमलानंद जी द्वारा गोपाष्टमी पर्व पर प्रकाश भी डाला जाएगा।

कामना रखनी है तो ईश्वर की रखो, जो जन्म-मरण के कुचक्र से कर दे मुक्त : स्वामी कमलानंद गिरी

श्री कल्याण कमल आश्रम हरिद्वार के अनंत श्री विभूषित 1008 महामंडलेश्वर स्वामी कमलानंद गिरि जी महाराज ने प्रवचनों की अमृतवर्षा करते हुए कहा कि एक क्षण वह आएगा जब मित्र, स्त्री एवं सभी परिवार के लोग व सुख-भोग के साधन, धन, मकान, वाहन, आदि संपत्तियां कुछ भी नहीं रहेंगी। न हम, न तुम न यह, कुछ भी नहीं रहेंगे। फिर उनको हमारा पता भी नहीं रहेगा। न हमें उनका पता रहेगा। न हम उनको मिल सकेंगे, न वह हमें मिल सकेंगे। मानव पहले अपरिचित अंधकार-पूर्ण स्थान से आया और सब-कुछ छोड़ कर वहां ही चला जाएगा। मानव विभिन्न योनियों में कर्मों के अनुसार भटकता हुआ अनेक विधि दु:ख भोगता हुआ भी कामनाओं का परित्याग नहीं कर सकता, क्योंकि उसकी प्राकृति ही कामनामई हो गई है।

कामनाएं ही गर्त में गिरा देने वाली है। अत: कामना ही रखनी है तो उस ईश्वर की रखो जो जन्म और मरण के कुचक्र से सदा के लिए मुक्त कर दे। स्वामी जी ने कहा कि जिस प्रकार वृक्ष की जड़ में पानी देने पर फल जड़ पर नहीं ऊपर टहनियों पर लगते हैं। उसी प्रकार इस धरती लोक पर जो कुछ भी कर्म किये जाते हैं, उन कर्मों का फल परलोक में (यानी कि ऊपर) प्राप्त होता हैं। महाराज जी ने कहा कि सतियुग में सभी तीर्थों का प्रभाव रहता है। द्वापर में कुरुक्षेत्र का और कलियुग में गंगा जी का विशेष महत्व है। कलियुग को आया देखकर सभी तीर्थ स्वभाविक रूप से ही अपना- अपना सामथ्र्य गंगा जी में विसर्जित कर देते हैं।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- कुछ महत्वपूर्ण नए संपर्क स्थापित होंगे जो कि बहुत ही लाभदायक रहेंगे। अपने भविष्य संबंधी योजनाओं को मूर्तरूप देने का उचित समय है। कोई शुभ कार्य भी संपन्न होगा। इस समय आपको अपनी काबिलियत प्रदर्...

और पढ़ें