बेटी को गोली मारकर पिता ने की खुदकुशी:मुक्तसर के माहूआना की घटना, कोरोना से मां और पत्नी की मौत के बाद परेशान होकर उठाया कदम

मुक्तसर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मृतक जगविंदर सिंह और विश्वदीप कौर। (फाइल फोटो) - Dainik Bhaskar
मृतक जगविंदर सिंह और विश्वदीप कौर। (फाइल फोटो)

पंजाब में मुक्तसर जिले के मलोट एरिया के माहूआना गांव में एक व्यक्ति ने अपनी 24 साल की बेटी को गोली मारकर खुद भी आत्महत्या कर ली। मृतकों की पहचान जगविंदर सिंह और विश्वदीप कौर के रूप में हुई। पता चला है कि कोरोना की वजह से मां और पत्नी की मौत से परेशान होकर जगविंदर सिंह ने यह कदम उठाया।

माहूआना पंचायत के पूर्व सरपंच जगविंदर सिंह ने शुक्रवार सुबह साढ़े 6 बजे अपनी सो रही 24 वर्षीय बेटी विश्वदीप कौर के सिर में लाइसेंसी पिस्टल से गोली मार दी। इसके बाद जगविंदर सिंह ने अपने सिर में भी गोली मार ली। घटना के समय घर में ही रहने वाली जगविंदर सिंह की बहन और भानजा अनमोल सिंह भैंसों का दूध निकाल रहे थे। गोली चलने की आवाज सुनकर अनमोल सिंह भागकर कोठी के अंदर पहुंचा तो वहां बाप-बेटी खून से लथपथ हालत में पड़े थे।

पिता और बेटी की मौत के बाद घर पर सांत्वना देने पहुंचे रिश्तेदार।
पिता और बेटी की मौत के बाद घर पर सांत्वना देने पहुंचे रिश्तेदार।

अनमोल सिंह ने शोर मचाकर ग्रामीणों को बुलाया और आनन-फानन में जगविंदर सिंह और विश्वदीप कौर को गाड़ी में डालकर अस्पताल पहुंचाया। डॉक्टरों ने जगविंदर सिंह की गंभीर हालत को देखते हुए उन्हें बठिंडा रेफर कर दिया। बठिंडा जाते समय जगविंदर सिंह ने रास्ते में ही दम तोड़ दिया। उधर विश्वदीप कौर की गंभीर हालत को देखते हुए डॉक्टरों ने उसे भी लुधियाना रेफर कर दिया। लुधियाना पहुंचने के बाद अस्पताल में विश्वदीप कौर की मौत हो गई।

डबल सुसाइड की खबर मिलते ही मुक्तसर जिले के लंबी थाने की पुलिस माहूआना गांव पहुंच गई और जांच शुरू कर दी। लंबी थाने के एसएचओ अमनदीप सिंह बराड़ ने बताया कि जगविंदर सिंह के भानजे अनमोल सिंह के बयान पर आईपीसी की धारा 174 के तहत कार्रवाई करते हुए दोनों की बॉडी का पोस्टमार्टम करवाया जा रहा है।

अनमोल सिंह ने बताया कि कोरोना की वजह से 6 महीने पहले ही जगविंदर सिंह की मां का निधन हो गया था। तकरीबन 10 दिन पहले जगविंदर सिंह की पत्नी की भी कोरोना से मौत हो गई। उसके बाद परिवार में जगविंदर सिंह और विश्वदीप कौर ही बचे थे। मां और पत्नी की मौत के बाद से जगविंदर सिंह परेशान रहने लगे थे। इसी परेशानी के चलते उन्होंने इतना बड़ा कदम उठा लिया।

अनमोल सिंह ने बताया कि मां और पत्नी की मौत के बाद मामा जगविंदर सिंह ने अपनी जमीन की संभाल के लए उसे माहूआना बुला लिया था। वह कुछ दिनों से माहूआना में ही रहकर जमीन और पशुओं की देखरेख कर रहा था।

खबरें और भी हैं...