पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

विश्व हेपेटाइटिस दिवस:विषाणुयुक्त सुई के प्रयोग, असुरक्षित शारीरिक संबंध व मां से बच्चे को हो सकता है हेपेटाइटिस

मुक्तसर6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मुख्यमंत्री हेपेटाइटस सी रिलीफ फंड योजना के तहत काले पीलिया का इलाज मुफ्त

पंजाब सरकार की हिदायत पर सिविल सर्जन डॉ. हरी नारायण सिंह की अध्यक्षता में जिला मुक्तसर में विश्व हेपेटाइटिस दिवस मनाया गया। जिले की स्वास्थ्य संस्थाएं और पब्लिक स्थानों पर स्वास्थ्य स्टाफ ने लोगों को हेपेटाइटिस (पीलिए) संबंधी जागरूक किया। जिला परिवार भलाई अधिकारी डॉ. रंजू सिंगला की अध्यक्षता में सिविल अस्पताल मुक्तसर व सिविल सर्जन कार्यालय में समागम करवाए गए। डॉ. रंजू सिंगला और सीनियर मेडिकल अधिकारी डॉ. सतीश गोयल ने बताया कि हर साल 28 जुलाई को विश्व हेपेटाइटिस दिवस मनाया जाता है, इसका मुख्य मकसद लोगों को हेपेटाइटिस से बचने के लिए जागरूक करना है।

अगर किसी को इस बीमारी के प्रति संदेह हो तो वह अपने टेस्ट करवा सकता है। पॉजिटिव आने की सूरत में पूरे कोर्स की दवा जिला अस्पताल से निशुल्क ले सकता है, जिससे मरीज बिल्कुल ठीक हो जाता है। इसके अलावा विभाग द्वारा बच्चों का टीकाकरण भी इसके बचाव के लिए किया जाता है। इस मौके पर हेपेटाइटिस संबंधी पंफलेट भी रिलीज किए गए। समागम में डॉ. परमजीत कौर, विनोद खुराना, नर्स सुनीता मौजूद थीं।

‘हेपेटाइटिस मुक्त भविष्य’ थीम के साथ साथ मनाया जा रहा यह दिन
विश्व में 290 मिलियन लोग इस वायरस से पीड़ित है जिनमें से अधिकतर अनजान हैं। इन लोगों की पहचान और जांच किए बिना न जाने कितने ही लोग इस बीमारी का शिकार बनते रहेंगे। विश्व स्वास्थ्य संगठन का ध्यान माताओं और नवजात शिशुओं के लिए हेपेटाइटिस-बी संक्रमण से मुक्ति दिलवाने पर है और इस बार का यह दिन इसी थीम ‘हेपेटाइटिस मुक्त भविष्य’ के साथ मनाया जा रहा है।

टैटू बनवाने, पुराने रेजर का प्रयोग करने से भी हो सकता है यह रोग

हेपेटाइटिस-बी और सी रक्त द्वारा शरीर में प्रवेश करता है जैसे विषाणु युक्त सुई के के प्रयोग, असुरक्षित शारीरिक संबंध और मां से बच्चे को यह रोग हो सकता है। इसके अलावा संक्रमित व्यक्ति के रक्त, खुले घाव और शरीर से निकलने वाले तरल पदार्थों के संपर्क में आने, टैटू बनवाने, पुराने रेजर का प्रयोग करने से भी यह रोग हो सकता है। हेपेटाइटिस-बी संक्रमण क्रोनिक होता है अर्थात यह छह माह से अधिक समय तक रहता है जिस वजह से लीवर खराब होने या कैंसर होने और सिरोसिस विकसित होने का खतरा बढ़ जाता है।

दूषित रक्त व नशे के लिए प्रयोग होने वाली सुइयों से भी फैलता है
हेपेटाइटिस-सी वायरस से संक्रमित अधिकांश व्यक्तियों में कोई लक्षण दिखाई नहीं देते। जिगर के क्षतिग्रस्त होने या मेडिकल परीक्षण करवाने पर ही इसका पता चलता है। यह बाकी हेपेटाइटिस के वायरसों में से अधिक गंभीर है और दूषित रक्त और नशे के लिए प्रयोग होने वाली सुइयों के माध्यम से फैलता है। हेपेटाइटिस रक्त में बिलीरुबीन की मात्रा बढ़ जाने से होता है।

यह वायरस शरीर में पानी, विषाणु युक्त सुई, असुरक्षित शारीरिक संबंध या मां से बच्चे को होता है। हेपेटाइटिस ए और ई पानी और खाने की वस्तुओं के साथ शरीर में प्रवेश करता है। हेपेटाइटिस-ए के मरीज हमारे देश में ही अधिक पाए जाते हैं। हेपेटाइटिस-ई उन स्थानों पर अधिक होता है जहां सफाई आदि का उचित प्रबंध नहीं होता।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- अगर जमीन जायदाद संबंधी कोई काम रुका हुआ है, तो आज उसके बनने की पूरी संभावना है। भविष्य संबंधी कुछ योजनाओं पर भी विचार होगा। कोई रुका हुआ पैसा आ जाने से टेंशन दूर होगी तथा प्रसन्नता बनी रहेगी।...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser