पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • When The Trains Were Closed, The Loco Pilot Landed In The Public Service, Used Two Vehicles To Transport The Patients To The Hospital, And Brought The Trapped People Home.

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

लॉकडाउन:ट्रेनें बंद थीं तो लोको पायलट जनसेवा में उतरा, मरीजों को अस्पताल पहुंचाने के लिए दो गाड़ियां लगाईं, लॉकडाउन में फंसे लोगों को घर पहुंचाया

फिरोजपुर2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • लॉकडाउन में रेलवे मुलाजिम विकास कुमार ने लोगों की सेवा में लगाया समय, हर तरह की मदद की

महेंद्र घणघस| कोरोनाकाल में जब रेलों के पहियों पर पूर्ण रूप से ब्रेक लगा हुआ था तो लोको पायलट विकास कुमार ने घर बैठने की बजाय लोगों की सेवा में अपना समय लगाने का मन बनाया। उन्होंने इस दौरान काम न मिलने पर आर्थिक रूप से जूझ रहे लोगों की मदद के लिए अपना दो माह का पूरा वेतन सेवा पर लगा दिया। इसी दौरान एक व्यक्ति की हालत गंभीर हो जाने के बाद उसके परिजनों को कोई वाहन नहीं मिला तो विकास सेवा का जज्बा दिखाते हुए उस मरीज को अपनी गाड़ी पर लुधियाना के एक अस्पताल में पहुंचाया जहां पर मरीज का उपचार हुआ। कोरोना लॉकडाउन में जब किसी जरूरतमंद को कोई रास्ता दिखाई न देता तो वे विकास से संपर्क करने लगे।

विकास बोले...लॉकडाउन में नहीं मिल रहे थे वाहन तो लोगों को अस्पताल पहुंचाने का उठाया बीड़ा

विकास की सेवा को देखते हुए रामलीला कमेटी ने भी की मदद

दरअसल कोरोना लॉकडाउन के चलते जहां लोगों का कामकाज ठप हो जाने से गरीब तबके को आर्थिक परेशानियों का सामना करना पड़ा वहीं बीमारों को दूसरे शहरों के अस्पतालों में ले जाने के लिए वाहन भी उपलब्ध नहीं हो पा रहे थे। ऐसे में मानव सेवा को सबसे बड़ी सेवा मानते हुए विकास कुमार ने अपने खाली समय को लोगों की सेवा के प्रति समर्पित कर दिया। साथ ही इस दौरान जब उसने देखा कि लोगों के पास पैसों की परेशानी है तो अपने वेतन में से ही उन पर खर्च करना शुरू कर दिया। दो माह के मिले करीब डेढ़ लाख से अधिक वेतन में से एक रुपया भी विकास ने खुद पर खर्च नहीं किया।

लोको पायलट विकास के इस सेवा भाव को देखते हुए राम लीला कमेटी ने भी उनका पूरा साथ देने के लिए कदम बढ़ाए और उसे आश्वासन दिया कि सेवा को जारी रखना है इसके लिए बजट कम पड़े तो किसी प्रकार की चिंता नहीं करनी।

लोगों की सेवा करने से मिला सुकून

विकास ने बताया कि इस स्थिति को देखकर मुझे लगा कि कोरोना लॉकडाउन में गंभीर मरीज को दूसरे शहरों के अस्पतालों में ले जाने के लिए एंबूलेंस या अन्य वाहन नहीं मिलते। तो मैने उसके बाद ऐसे मरीजों को अस्पतालों में पहुंचाने का बीड़ा उठाया। जब एक गाड़ी कम पड़ती दिखाई दी तो दूसरी गाड़ी का भी बंदोबस्त कर लिया गया ताकि गाड़ी समय पर न मिल पाने के कारण किसी की जान न चली जाए।

किसी से तेल के पैसे भी नहीं लिए। यह सिलसिला लॉकडाउन खुलने तक जारी रहा लेकिन इस प्रकार की सेवा करने के बाद मेरे मन में एक बात घर कर गई कि अब कभी भी ऐसी सेवा जब तक संभव होगा करता रहूंगा। विकास ने बताया कि लुधियाना, मोगा, फरीदकोट आदि शहरों के अस्पतालों में जो मरीज उसने अपनी गाड़ी से पहुंचाए वे सभी उपचार के बाद ठीक होकर घरों को लौटे तो उसे जो खुशी हुई उसकी कीमत वह बयां नहीं कर सकता।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- व्यस्तता के बावजूद आप अपने घर परिवार की खुशियों के लिए भी समय निकालेंगे। घर की देखरेख से संबंधित कुछ गतिविधियां होंगी। इस समय अपनी कार्य क्षमता पर पूर्ण विश्वास रखकर अपनी योजनाओं को कार्य रूप...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser