किसानों की चेतावनी:निर्विघ्न बिजली की मांग नहीं हुई पूरी, भाकियू ने एक्सईएन दफ्तर के गेट पर जड़ा ताला, 60 कर्मी नहीं हो पाए दाखिल

लहरागागा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लहरागागा में एक्सईएन कार्यालय के गेट को ताला लगा अंदर जमे बैठे किसान। - Dainik Bhaskar
लहरागागा में एक्सईएन कार्यालय के गेट को ताला लगा अंदर जमे बैठे किसान।
  • जब तक पूरी बिजली नहीं मिलती किसी कर्मचारी को नहीं होने देंगे दाखिल
  • दफ्तर के घेराव के बाद कर्मचारियों ने देहाती कार्यालय में बैठकर किया काम

खेतों के लिए निर्विघ्न बिजली सप्लाई की मांग को लेकर किसानों का गुस्सा थमने का नाम नहीं ले रहा है। पिछले चार दिन से एक्सईएन कार्यालय के समक्ष धरने पर बैठे भाकियू उगराहां के सदस्यों ने एक्सईएन दफ्तर पर वीरवार सुबह ही कब्जा जमा लिया। किसानों ने दफ्तर के गेट को ताला लगा भीतर धरना शुरू कर दिया।

जिस कारण विभाग के 60 मुलाजिम दफ्तर में दाखिल नहीं हो पाए। ऐसे में एक घंटा इंतजार करने के बाद मुलाजिम दिहाती कार्यालय में जाकर बैठ गए। किसानों ने चेतावनी दी है कि जब तक उन्हें निर्विघ्न सप्लाई नहीं मिलेगी तब तक किसी भी अधिकारी व कर्मचारी को अंदर दाखिल नहीं होने देंगे।

धरने को संबोधित करते हुए भाकियू नेता राम सिंह ढींडसा, सूबा सिंह संगतपुरा, दर्शन चंगालीवाला ने कहा कि धान की फसल को अंतिम पानी की जरूरत है परंतु उन्हें पूरी सप्लाई नहीं दी जा रही है। इस कारण धान की फसल प्रभावित हो रही है।

एक्सईएन ने वादा पूरा नहीं किया, इसलिए दे रहे धरना : किसान

किसान नेताओं ने कहा कि रविवार से एक्सईएन कार्यालय के समक्ष धरना शुरू किया था। सोमवार को कार्यालय का घेराव कर मुलाजिमों को अंदर जाने से रोका था उस दौरान एक्सईएन ने उन्हें आश्वासन दिलाया था कि किसानों को पूरी सप्लाई दी जाएगी।

इसके चलते बुधवार को किसी भी कर्मचारी को कार्यालय में जाने से नहीं रोका गया परंतु अभी तक वायदा पूरा नहीं हुआ है। उन्हें धरना देने का शौक नहीं है, मजबूरन वह दफ्तर को ताला लगाने के लिए मजबूर हुए हैं।

खबरें और भी हैं...