धरना-प्रदर्शन:किसानों को रोकने के लिए 300 पुलिस कर्मी तैनात फिर भी बैरिकेड तोड़ मनप्रीत बादल की कोठी को घेरा

मलोट15 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
मनप्रीत बादल की कोठी का घेराव करते हुए किसान। - Dainik Bhaskar
मनप्रीत बादल की कोठी का घेराव करते हुए किसान।
  • एसडीएम का भराेसा- आज 11 बजे संगठन से बातचीत कर निकालेंगे हल
  • भाकियू (एकता उगराहां) नरमा व अन्य खराब फसलों के मुआवजे के लिए 3 दिन से कर रही धरना-प्रदर्शन
  • चेतावनी- मुआवजा न मिला तो वित्त मंत्री की कोठी का अनिश्चितकाल के लिए करेंगे घेराव

नरमा व अन्य खराब फसलों के मुआवजे के लिए भारतीय किसान यूनियन एकता उगराहां के चल रहे बादल मोर्चा द्वारा तीसरे दिन खजाना मंत्री की रिहायश के पास लगे बैरिकेड को तोड़ते हुए मनप्रीत बादल की कोठी का घेराव किया गया। वहीं, धरने को संबोधित करते प्रांतीय सचिव श्रृंगारा सिंह मान ने कहा कि गुलाबी सुंडी के हमले व कुदरती कारणों के कारण नरमा सहित अन्य फसलें तबाह हो चुकी हैं, जिसके मुआवजे को लेकर किसान, मजदूर द्वारा 5 अक्टूबर से मोर्चा लगाए हुए हैं, परंतु पंजाब सरकार ने उनकी मांग मानने की बजाय चुप्पी साधी हुई है।

वहीं, मनप्रीत की कोठी के घेराव के बाद चली एसडीएम गिद्दड़बाहा से बातचीत के दौरान एसडीएम ने किसान नेताओं काे भरोसा दिया कि शुक्रवार काे 11 बजे संगठन से बातचीत कर मांगों का हल निकाला जाएगा। वहीं, किसान नेताओं ने एलान किया कि मामले का हल न निकला तो खजाना मंत्री की कोठी का अनिश्चितकाल समय के लिए घेराव किया जाएगा।

पुलिस के साथ पानी की बौछारों के लिए गाड़ियां भी तैनात

गांव बादल में वित्त मंत्री मनप्रीत बादल के विरुद्ध प्रदर्शनकारी किसानों व मजदूरों को रोकने के लिए पुलिस के करीब 300 पुलिस कर्मचारी तैनात किए गए थे, जिसकी कमान एसपी डी राजपाल सिंह हुंदल ने संभाली। वहीं, उनके साथ डीएसपी जसपाल सिंह ढिल्लों, डीएसपी गिद्दड़बाहा नरिंदर कुमार के अलावा मलोट, लंबी, गिद्दड़बाहा आदि तैनात थे।

प्रदर्शनकारियों को वित्त मंत्री की कोठी के आगे जाने से रोकने के लिए बैरीकेड लगाए गए थे और पानी की बौछारों के लिए गाड़ियां लगाई गई थीं, परंतु प्रदर्शनकारियों ने पुलिस के लोहे के बैरीकेड तोड़ते हुए आसानी से वित्त मंत्री मनप्रीत बादल की कोठी के गेट तक जा पहुंचे और वहीं धरना लगा दिया।

आज भारी संख्या में बादल मोर्चा में पहुंचेंगे किसान

किसान नेताओं ने किसान, मजदूरों, नौजवानों व महिलाओं को अपील की है कि वह शुक्रवार को बड़ी गिनती में बादल मोर्चा में पहुंचें, यहां सरकार को उनकी मांगे मानने के लिए मजबूर किया जाएगा। धरने को संगठन के नेता हरविंदर बिन्दु, परमजीत कौर, हरजिंदर सिंह, संगत ब्लॉक के प्रधान कुलवंत शर्मा गुरपाश सिंह, गुरभेज सिंह, जगतार सिंह ने संबोधित किया।

बादल गांव में धरने पर बैठे किसानों से शांति बनाए रखने की अपील

किसानों द्वारा गांव बादल में गुलाबी सुंडी से प्रभावित नरमे की फसल निर्धारित दरों से अधिक मुआवजा मांगने के लिए लगाए धरने के बारे में नवनियुक्त डीसी हरप्रीत सिंह सुदन ने किसानों को अपील की है कि वह शांति बनाकर सहजता से काम लें।

डीसी ने धरनाकारियों को अपील की है जो धरने के लिए पहले जगह मंजूर की गई थी वह उसी जगह पर वापस आएं। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री पंजाब द्वारा पहले ही स्पेशल गिरदावरी कर किसानों को उनकी फसलों के खराब हाेने के बदले मुआवजे के आदेश जारी किए जा चुके हैं। यह कार्य दिवाली से पहले करने के फरमान जारी हुए हैं। वहीं, एसडीएम ओम प्रकाश ने बताया कि सरकार के आला नुमाइंदों सहित मंत्रियों की लखमीपुर खीरी (यूपी) से वापस आने के उपरांत ही किसानों से बातचीत संभव है।

खबरें और भी हैं...