कत्ल का मामला:शिरोमणि अकाली दल में होते हुए भी विक्की के कांग्रेस और ‘आप’ विधायकों से थे अच्छे संबंध

मलोट3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • मोहाली में बिक्रमजीत सिंह कुलार विक्की मिड्डूखेड़ा के कत्ल का मामला

मोहाली में स्टूडेंट आर्गेनाइजेशन ऑफ इंडिया (सोई) के नेता विक्की मिड्डखेड़ा का गोलियां मारकर कत्ल कर दिया गया। उसका पूरा नाम बिक्रमजीत सिंह कुलार विक्की मिड्डूखेड़ा था। उसने शुरुआती पढ़ाई गांव से की। उपरांत बीए चंडीगढ़ डीएवी कॉलेज से की और यहीं से एमए हिस्ट्री की। 2010 में विक्की मिड्डूखेड़ा सोपू का प्रधान बना। बाद में शिरोमणि अकाली दल एसओआई चंडीगढ़ यूनिट का प्रधान बना।

इस दौरान शिरोमणि अकाली दल के प्रधान सुखबीर सिंह बादल की ओर से विक्की को यूथ डेवलपमेंट बोर्ड का डायरेक्टर बनाया गया। विक्की का 2018 में विवाह हुआ था। विक्की अपने बड़े भाई अजय पाल सिंह कुलार के साथ चंडीगढ़ के 71 सेक्टर में रहता था। विक्की के भाई अजय पाल सिंह ने शिअद टिकट से नगर निगम का चुनाव लड़ा था परंतु हार गए थे।

विक्की के खिलाफ चंडीगढ़ पुलिस ने करीब 10 महीने पहले आर्म्स एक्ट के तहत मामला दर्ज किया था। विक्की के परिवार के पास 50 एकड़ के करीब जमीन है। विक्की भाई के साथ प्रॉपर्टी का कारोबार करता था। विक्की के पिता गांव के लंबा समय सरपंच रहे। 1997 में कांग्रेस को छोड़ अकाली दल में शामिल हो गए थे। विक्की भले शिअद से जुड़े हुए थे परंतु उनके कांग्रेस एवं आम आदमी पार्टी के साथ अच्छे संबंध थे।

खबरें और भी हैं...