पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

एनडीपीएस एक्ट के तहत केस दर्ज:नशा तस्करी मामले में फरार 21 आरोपी भगोड़े घोषित

मोगा16 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

जिले की विभिन्न अदालतों ने नशा तस्करी के मामले में कोरोना के चलते पेरोल पर छोड़ा था, लेकिन पेरोल खत्म होने के बाद आरोपी जेल नहीं पहुंचे तो अदालत ने 21 फरार आरोपियों को भगोड़ा करार देते हुए पुलिस को केस दर्ज करने के निर्देश दिए। थाना सदर के सब इंस्पेक्टर बलविंदर सिंह ने बताया कि पुलिस की ओर से 11 जनवरी 2020 को नशा तस्करी एक्ट के तहत जसवीर सिंह निवासी बुककन वाला के खिलाफ केस दर्ज किया था। आरोपी को जमानत मिलने के बाद वह अदालत में पेश नहीं हुआ। अदालत के निर्देश पर आरोपी जसवीर सिंह के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

दूसरे मामले में थाना सदर के एएसआई बलविंदर सिंह ने बताया कि पुलिस ने 8 सितंबर 2020 को रमेश कुमार निवासी बीकानेर के खिलाफ नशा तस्करी के मामले में केस दर्ज किया गया था। आरोपी फरार हो गया, जिसके चलते अदालत द्वारा भगोड़ा करार दिया था। पुलिस ने पर आरोपी के खिलाफ केस दर्ज किया है। तीसरे मामले में थाना मैहना के एएसआई सुखपाल सिंह ने बताया कि पुलिस ने 9 जनवरी 2013 को नशा तस्करी के मामले में रमण कुमार निवासी पीपे वाली गली के खिलाफ केस दर्ज किया था। अदालत ने भगौड़ा करार दिया था। पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है।

चौथे मामले में थाना मैहना के एएसआई नछत्तर सिंह ने बताया कि पुलिस ने 6 अगस्त 2018 को नशा तस्करी के मामले में बूटा सिंह निवासी गांव चड़िक के खिलाफ केस दर्ज किया था। अदालत ने भगौड़ा करार दिया था। पुलिस ने आरोपी के खिलाफ केस दर्ज किया। पांचवें मामले में थाना मैहना के एएसआई राजवीर सिंह ने बताया कि पुलिस द्वारा 21 अक्टूबर 2015 को नशा तस्करी मामले में उत्तरप्रदेश निवासी बृजेश कुमार के खिलाफ केस दर्ज किया था। आरोपी को भगौड़ा करार दिया था। छठे मामले में थाना मैहना के हवलदार सिकंदर सिंह ने बताया कि पुलिस ने 18 दिसंबर 2013 को लुधियाना निवासी अमृतपाल सिंह के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत केस दर्ज किया था ।आरोपी फरार होने के चलते अदालत ने भगौड़ा करार दिया था।

सातवें में मामले में थाना बधनीं कलां एसआई केवल सिंह ने बताया कि पुलिस ने 30 अगस्त 2014 को संतोष कुमार निवासी यूपी के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत केस दर्ज किया था। आरोपी लगातार फरार होने के चलते अदालत ने भगोड़ा करार दिया था। आठवें मामले में थाना बधनी कलां के एएसआई रघुविंदर प्रसाद ने बताया कि 4 जुलाई 2005 को सुखपाल सिंह निवासी बाघापुराना के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत केस दर्ज

किया था। अदालत ने भगौड़ा करार दिया था। नौवें मामले में थाना बधनी कलां के एएसआई नाहर सिंह ने बताया कि पुलिस ने 2 अक्टूबर 2013 को मनोज कुमार ,माधो सिंह नामक दो नशा तस्करों के खिलाफ केस दर्ज किया था। दोनों आरोपी फरार होने के चलते अदालत ने भगौड़ा करार दिया था। दसवें मामले में थाना बधनी कलां के सब इंस्पेक्टर मंगल सिंह ने कहा कि पुलिस ने 20 फरवरी 2013 को बलजीत सिंह निवासी जालंधर के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत केस दर्ज किया था। अदालत ने भगौड़ा करार दिया था। इसी तरह 11 अन्य मामलों में पेरोल खत्म होने बाद वापस न आने वाले आरोपियों को अदालत ने भगोड़ा घोषित किया है।

खबरें और भी हैं...