कोरोना संकट:प्रशासन खुद करेगा ऑक्सीजन सिलेंडरों की सप्लाई सप्लायर्स को आदेश-बिना अनुमति किसी को न दें

मोगा6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • ऑक्सीजन सिलेंडरों की कमी के चलते 250 सिलेंडर गोबिंदगढ़ से भरवाएगा जिला मोगा का प्रशासन
  • डीसी ने उद्योग व निजी अस्पतालों को स्टॉक न करने के आदेश दिए

कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए ऑक्सीजन की कमी न हो, इसलिए जिला प्रशासन ने ऑक्सीजन की सप्लाई अपने हाथों में लेने का फैसला लिया है। डीसी हरीश नायर ने वीरवार को आदेश जारी किए कि उद्योग व निजी अस्पताल ऑक्सीजन का स्टॉक इकट्ठा न करें। ऑक्सीजन सिलेंडर सप्लायर्स को लिखित आदेश जारी किए कि जिला प्रशासन की अनुमति के बिना ऑक्सीजन सिलेंडर की सप्लाई न की जाए ताकि ऑक्सीजन की कमी के चलते किसी कोरोना मरीज को कीमती जान न गंवानी पड़े। एसडीएम मोगा व नोडल अधिकारी जसवंत सिंह ने कहा कि वीरवार को जिले को मात्र डेढ़ मीट्रिक टन ऑक्सीजन ही मिली है।

जबकि, स्टेट से जिला प्रशासन को ऑक्सीजन नहीं मिली। दो मीट्रिक टन ऑक्सीजन सप्लाई मंगवाने के लिए जदोजहद कर रहे हैं। जिला प्रशासन सुबह से जिले से ऑक्सीजन के खाली सिलेंडर इकट्ठे कर रहा है। अभी तक 250 सिलेंडर इकट्ठा हुए हैं। इनको मंडी गोबिंदगढ़ में ऑक्सीजन भरवाने के लिए भेजा जाएगा। सहायक सिविल सर्जन डॉक्टर जसवंत सिंह ने कहा कि मोगा जिले में लेवल-2 के तहत 190 बेड ऑक्सीजन सप्लाई वाले बिल्कुल तैयार हैं। इनमें मोगा सरकारी अस्पताल में 30 बेड और 160 बेड निजी अस्पतालों में तैयार हैं। वहीं, लेवल-3 के लिए पांच वेंटिलेटर वाला एक निजी अस्पताल मंजूर किया है। सरकारी अस्पताल में आने वाले मरीजों को वेंटिलेटर सुविधा के लिए फरीदकोट मेडिकल कॉलेज रेफर किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...