किसान आंदोलन:भाई कन्हैया कैंसर रोको सेवा सोसायटी की टीम ने दिल्ली जाकर किसान आंदोलन को दिया समर्थन

कोटकपूराएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • बोले-केंद्र सरकार काॅरपोरेट घरानों के हाथों की कठपुतली की भूमिका निभा रही है

केंद्र के तीन खेती कानूनों के खिलाफ दिल्ली में जारी किसान आंदोलन में समाज का हर वर्ग अपने क्षमता के अनुसार योगदान डाल रहा है। इसी क्रम में भाई कन्हैया कैंसर रोको सेवा सोसायटी फरीदकोट की टीम ने भी संघर्षशील किसानों के साथ पिछले एक हफ्ते से दिल्ली किसान मोर्चे में डेरे जमाया हुआ है। सोसायटी के अध्यक्ष गुरप्रीत सिंह चन्दबाजा, वरिष्ठ उपाध्यक्ष कुलतार सिंह संधवां, राजपाल सिंह संधू हरदियालेआना और जगसीर सिंह संधवां के नेतृत्व में दिल्ली में किसान मोर्चे में पहुंचे सोसायटी सदस्यों ने कहा कि स्वामीनाथन आयोग की सिफारिश को लागू करने के वादे के साथ सत्ता में आई मोदी सरकार अब शांता कुमार की सिफारिशों पर किसान विरोधी बिल लागू करके देश के अन्नदाता की बली देकर कारपोरेट घरानों के हाथों की कठपुतली की भूमिका निभा रही है।

सोसायटी सदस्यों ने कनाडा के प्रधान मंत्री जस्टिन ट्रूडो समेत अन्य अंतर्राष्ट्रीय नेताओं द्वारा किसान आंदोलन के हक में उठाई आवाज का स्वागत करते हुए कहा कि जब विदेशों में बसते नेता किसानों के भविष्य को लेकर चिंतित हो रहे हैं। ऐसे समय में देश के प्रधानमंत्री की तरफ से किसानों के मामलों के समाधान की बजाय उनको खेती कानूनों के लाभ समझाने के बार-बार दिए जा रहे बयान साबित करते हैं कि प्रधानमंत्री व उनके सलाहाकार देश के लाखों अन्नदाताओं को नासमझ समझते हैं।

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार को हठधर्मिता छोड़कर दो महीनों से सड़क पर संघर्ष कर रहे लोगों की मांग माननी चाहिए और केंद्र की तरफ से राज्यों के अधिकारों का हनन करने से गुरेज करना चाहिए। इस दौरान कोटकपूरा से गए कार्यकर्ता सुखविन्दर सिंह बब्बू, लाल सिंह, प्रीत भगवान भी उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...