पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

विरोध:श्रम कानूनों में संशोधन के खिलाफ डीटीएफ ईटीयू और बीकेयू ने किया प्रदर्शन

मोगा4 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • 38 लेबर कानूनों को 3 साल निरस्त व काम का समय 8 से 12 घंटे करने से 10 केंद्रीय ट्रेड यूनियनें आक्रोशित

भारत सरकार द्वारा श्रम कानूनों में मजदूर विरोधी संशोधन किए जाने के विरोध में 10 केंद्रीय ट्रेड यूनियनों द्वारा 22 मई को रोष प्रदर्शन करने का आह्वान किया गया था, जिसके समर्थन में शुक्रवार को डीटीएफ, ईटीयू और भारतीय किसान यूनियन एकता उगराहां की तरफ से सांझे रूप से नेचर पार्क  में रोष प्रदर्शन किया गया।

डीटीएफ पंजाब के सूबा प्रधान दिग्विजयपाल शर्मा, बीकेयू के नेता नछत्तर सिंह झंडेआना, बलौर सिंह घल्लकलां, ईटीयू के जिला प्रधान सुरिंदर शर्मा ने कहा कि केंद्र सरकार कोविड-19 महामारी की आड़ में कामगार लोगों के हकों पर डाका मार रही है। पिछले  किरत कानूनों में बड़े फेरबदल करके काम के घंटे 8 से 12 कर दिए, मजदूरों से हड़ताल करने, रोष प्रदर्शन करने का कानूनी अधिकार छीन लिया है। मजदूर विरोधी कदम उठाते हुए 38 लेबर कानूनों को तीन साल के लिए निरस्त कर दिया गया है। अर्ध सरकारी अदारों के कर्मचारियों का महंगाई भत्ता जब्त कर लिया है।

सरकार की शह पर कारखाने के मालिकों ने वेतन देने से इन्कार कर दिया है। नेताओं ने कहा कि इन मुद्दों को लेकर ट्रेड यूनियनों के आह्वान पर अध्यापक और किसान जत्थेबंदियों ने रोष प्रदर्शन किए हैं। उन्होंने कहा कि यदि केंद्र सरकार ने यह संशोधन वापस न लिए तो देश भर में व्यापक संघर्ष शुरू किया जाएगा।

डीटीएफ के जिला प्रधान अमनदीप मटवानी, जिला सचिव जगवीरन कौर ने बताया कि केंद्र सरकार द्वारा भारतीय कंपनियों से सौदे छीनकर विदेशी बीमा कंपनियों और विदेशी तेल कंपनियों को देकर, हर तरफ 100% एफडीआई से देश को चूना लगाया जा रहा है। 

इस मौके पर डीटीएफ नेता अमनदीप माछीके, सुखमंदर निहाल सिंह वाला, हरप्रीत सिंह रामा, स्वर्ण दास, गुरमीत झोरड़ां, मधु बाला, शविंदरपाल कौर, सवरनजीत कौर, हरिंदरजीत सिंह धालीवाल, कुलविंदर चुघ्घा कलां, पूर्व जिला प्रधान डीटीएफ सुरिन्दर  सिंह, प्रेम कुमार समेत भारतीय किसान यूनियन एकता उगराहां और ईटीयू के कार्यकर्ता उपस्थित थे।
केंद्र सरकार के खिलाफ इंटक ने दिया धरना
विश्वव्यापी कोरोना वायरस महामारी की आड़ में देश के विशेषकर प्रवासी मजदूरों, दिहाड़ी कर्मियों के साथ केंद्र सरकार की ओर से सौतेला व्यवहार किया जा रहा है। केंद्र सरकार के खिलाफ मिनी सचिवालय के बाहर इंटक की तरफ से प्रदर्शन किया गया। इंटक के जिला अध्यक्ष एडवोकेट विजय धीर ने कहा कि केंद्र सरकार मुलाजिम विरोधी फैसले ले रही है। उन्होंने कहा कि कोविड-19 महामारी के दौरान केंद्र सरकार का मजदूर मुलाजिम विरोधी चेहरा सामने आया है। उन्होंने मांग की है कि ड्यूटी के लिए 8 घंटे का समय बहाल किया जाए। केंद्र सरकार 4 करोड़ मुलाजिमों के महंगाई भत्ते की अदायगी रोकने के फैसले को वापस ले। इस अवसर पर कर्मचंद चंडालिया, प्रवीण शर्मा, जगतार सिंह, मदनलाल बोहत, हरबंस सागर, खुशपाल ऋषि, सतपाल सिंह, कुलवीर सिंह, अरुण बोहत, अमरदीप सिंह, मनजीत सिंह, राकेश कुमार, रणजीत सिंह, लखबीर सिंह, अमरीक सिंह उपस्थित थे। 

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज का दिन परिवार व बच्चों के साथ समय व्यतीत करने का है। साथ ही शॉपिंग और मनोरंजन संबंधी कार्यों में भी समय व्यतीत होगा। आपके व्यक्तित्व संबंधी कुछ सकारात्मक बातें लोगों के सामने आएंगी। जिसके ...

और पढ़ें