स्तनपान जागरूकता सप्ताह:जन्म के बाद पहले घंटे में ही बच्चे को मां का दूध पिलाने से प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है : लवली चावला

फरीदकोट3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • सिविल अस्पताल में मां के दूध की महत्ता विषय पर करवाया सेमिनार

स्तनपान जागरूकता सप्ताह के तहत चल रही गतिविधियों के क्रम में एसएमओ सिविल अस्पताल फरीदकोट डाॅ. चन्द्र शेखर कक्कड़ के नेतृत्व में सिविल अस्पताल के जच्चा-बच्चा विभाग में मां के दूध की महत्ता विषय पर जागरूकता सेमिनार का आयोजन किया गया।

इस दौरान काउंसलर लवली चावला ने गर्भवती महिलाओं, नवजात बच्चों की मां और उनके पारिवारिक सदस्यों को संबोधित करते हुए बताया कि मां का दूध बच्चे के लिए अमृत समान है, बच्चे के जन्म के उपरांत पहले घंटे में ही मां का पहला गाड़ा पीला दूध जरूर नवजात बच्चे को देना चाहिए जिससे बच्चे में रोग प्रतिरोधक क्षमता मजबूत होती है।

बच्चे को जन्म के बाद पहले 6 महीने सिर्फ मां का दूध ही देना चाहिए और कुछ और नहीं देना चाहिए। मां का दूध बच्चे के लिए उत्तम खुराक है और यह मां और बच्चा दोनों के लिए लाभप्रद भी है। अंत में उपस्थित लोगों को मां के दूध की महत्ता व बच्चे को दूध पिलाने के सही ढंग की जानकारी देती जागरूकता सामग्री वितरित की गई।

मां का दूध बच्चे के लिए वरदान : अमरप्रीत
सेहत और परिवार भलाई विभाग पंजाब के हुक्मों के अनुसार जिले में सिविल सर्जन डाॅक्टर अमरप्रीत कौर बाजवा के हुक्मों अनुसार जच्चा-बच्चा वार्ड में माँ के दूध की महत्ता बारे जागरूक किया गया। डाॅ. रुपन्दिर कौर गिल जिला परिवार भलाई अफसर ने नवजन्मे बच्चों वाली माताओं को मां के दूध की महत्ता के बारे में जागरूक किया।

उन्होंने बताया कि नवजात बच्चे को पहले वाला दूध जरूर पिलाया जाए और यदि मां लगातार बच्चे को दूध पिलाती है, तो यह बच्चे और मां के लिए वरदान साबित होता है। इससे बच्चों में बीमारियों के साथ लड़ने वाली शक्ति बनती है और मां में छाती का कैंसर होने का खतरा कम होता है। इसलिए मां के दूध की महत्ता बारे जागरूक करना बहुत जरूरी है। इस मौके पर उपस्थित कृष्णा शर्मा जिला सूचना अफसर, नर्सिंग सिस्टर मनजीत कौर, नर्सिंग सिस्टर रणजीत कौर, रुपिंदरजीत कौर स्टाफ नर्स, पुनीत कौर और अमृत शर्मा भी उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...