पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

माेगा सिविल में बड़ी लापरवाही:निक्कू वार्ड में अनट्रेंड महिला चेंज कर रही थी ऑक्सीजन सिलेंडर, लीक हुआ तो 6 बच्चों को छोड़ भागा स्टाफ

मोगा6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
गैस लीक होने पर नीचे भागता स्टाफ। - Dainik Bhaskar
गैस लीक होने पर नीचे भागता स्टाफ।
  • निक्कू वार्ड में मची अफरा-तफरी, पहली मंजिल पर 35 मरीज थे

सरकारी अस्पताल के निक्कू वार्ड में बुधवार दोपहर एक बजे अनट्रेंड महिला स्टाफ कर्मी ऑक्सीजन सिलेंडर बदल रही थी। इस दौरान सिलेंडर लीक हो गया तो वहां अफरा-तफरी मच गई। जिस समय घटना हुई उस समय निक्कू वार्ड में 6 बच्चे एडमिट थे। पूरा स्टाफ भाग निकला और बच्चों को वहीं छोड़ दिया। बिल्डिंग के उसी फ्लोर में गर्भवती महिलाएं और कुछ महिलाएं जिनकी डिलीवरी हो चुकी थी वे जच्चा-बच्चा वार्ड में थीं।

उनके परिजन भी उन्हें हड़बड़ी में अस्पताल से बाहर लेकर भागे। शोरगुल सुनकर 108 एंबुलेंस चालक पहुंचा और उसने तत्काल सिलेंडर के वाल को ठीक किया। तब माहौल शांत हुआ। वार्ड में दाखिल सभी छह बच्चे सुरक्षित हैं। वार्ड में लगे सीसीटीवी में पता चला कि अस्पताल वार्ड अटेंडेंट बलजीत कौर पिछले 3-4 साल से बिना किसी ट्रेनिंग के ऑक्सीजन सिलेंडर खत्म होने पर सिलेंडर बदलने का काम करती आ रही है। बुधवार को भी ऑक्सीजन सिलेंडर खत्म होने पर वह सिलेंडर चेंज कर रही थी। इसी दौरान सिलेंडर में लिकेज हो गया। डर कर शोर मचाते हुए वहां से सारा स्टॉफ बच्चों को छोड़कर भाग निकला।

शोर सुन अस्पताल के कमरे से निकला तो अफरा तफरी मची थी
मैं जच्चा-बच्चा वार्ड में एंबुलेंस चालकों के लिए बने कमरे में आराम कर रहा था। शोर-शराबा सुनाई दिया तो कमरे से बाहर आया। वहां भगदड़ जैसा माहौल था। निक्कू वार्ड से ऊपर से मरीज नवजन्मे बच्चों को उठाकर नीचे भाग कर आ रहे हैं। जब उसे पता चला कि ऑक्सीजन सिलेंडर लीक हो गया है, तो भागकर ऊपर पहुंचा और लीक हो रहे ऑक्सीजन सिलेंडर के वाल को बंद कर आक्सीजन लीक होने से रोका। पहली मंजिल पर 30 से 35 मरीज दाखिल थे जबकि दूसरी मंजिल पर भी इतने ही मरीज दाखिल हैं। - जैसा कि 108 एंबुलेंस के चालक कमलजीत ने बताया

सिलेंडर बदलने वाले ट्रेंड स्टाफ को वार्ड में किया जाएगा नियुक्त : एसएमओ
सीनियर मेडिकल अफसर डॉक्टर सुखप्रीत सिंह बराड़ ने कहा कि जच्चा-बच्चा वार्ड में ऑक्सीजन गैस सिलेंडर लीक हुआ, लेकिन समय रहते सिलेंडर की लीकेज को बंद कर दिया गया। इससे बड़ा हादसा टल गया। उन्होंने माना कि जल्द ही ऑक्सीजन सिलेंडर बदलने वाले ट्रेंड स्टाफ को वार्ड में नियुक्त किया जाएगा।

खबरें और भी हैं...