जाम के कारण लोगों को करना पड़ा परेशानी का सामना:रेगुलर करने को लेकर एनएचएम कर्मियों ने हाईवे पर घंटाभर जाम लगाकर सरकार के खिलाफ की नारेबाजी

मोगा2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
मोगा-फिरोजपुर हाईवे जाम करके प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते एनएचएम कर्मी। - Dainik Bhaskar
मोगा-फिरोजपुर हाईवे जाम करके प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते एनएचएम कर्मी।
  • कर्मियों ने सरकार के नाम एसडीएम को मांग पत्र सौंपा

रेगुलर करने की मांग को लेकर गुस्साए एनएचएम कर्मियों ने मंगलवार को मोगा-फिरोजपुर हाईवे पर एक घंटा जाम लगाकर पंजाब सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। एनएचएम इंप्लाइज यूनियन की ओर से लगाए गए जाम के कारण लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। धरने को संबोधित करते हुए यूनियन नेताओं ने कहा कि एनएचएम के तहत काम कर रहे कर्मचारी (क्लेरिकल मेडिकल पैरा मेडिकल) पंजाब सरकार की हिदायतों के अनुसार मुकम्मल प्रक्रिया द्वारा भर्ती हुए हैं।

15 साल की बढ़िया सेहत सेवाएं एवं विशेष तौर पर कोविड महामारी के दौरान फ्रंट लाइन पर किए कार्यों को सिर्फ केन्द्रीय स्कीमों के हवाले देकर नजर अंदाज करना 12 हजार कर्मचारियों से बेइंसाफी है। यूनियन नेताओं ने कहा कि समय-समय पर एनएचएम कर्मचारियों की मांगों को उच्चाधिकारियों व सरकार के ध्यान में लाया जा रहा है।

प्रदेश सरकार से कच्चे कर्मियों को पक्का करने की मांग

यह कर्मचारी रेगुलर कर्मचारियों के मुकाबले बहुत ही कम वेतन पर काम कर रहे हैं। प्रतिदिन बढ़ती महंगाई के मद्देनजर कम वेतन में गुजारा करना बहुत मुश्किल है। उन्होंने सरकार से अपील की कि एनएचएम कर्मचारियों को दि पंजाब प्रोटक्शन एंड रेगुलेशन आफ कांट्रेक्ट इंप्लाइज बिल 2021 के तहत रेगुलर किया जाए। यूनियन नेताओं ने कहा कि यदि सरकार ने जल्द ही मांगें न मानी तो संघर्ष को तेज किया जाएगा।

इस दौरान कर्मियों ने पंजाब सरकार के नाम एसडीएम सतवंत सिंह को मांगपत्र सौंपा। यूनियन नेताओं ने कहा प्रदेश सरकार एनएचएम कर्मियों को जल्द ही पक्का करे, नहीं तो संघर्ष को तेज किया जाएगा, जिसकी जिम्मेदारी प्रदेश सरकार की होगी। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में कच्चे एनएचएम कर्मियों ने जान जोखिम में डालकर लोगों की सेवा की। पंजाब में एनएएचम के अधीन 12 हजार कर्मचारी 15 साल से काफी कम वेतन पर काम कर रहे हैं परंतु सरकार वादे करने के बावजूद उन्हें रेगुलर नहीं कर रही है। अब कर्मचारी अपनी नौकरी पक्की करवाने व वेतन लेने की मांग कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...