धरना-प्रदर्शन:मांगों को लेकर नॉन टीचिंग इंप्लाइज यूनियन ने प्रदेश सरकार के खिलाफ धरना-प्रदर्शन कर नारेबाजी की

मोगाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पंजाब सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते नॉन टीचिंग इंप्लाइज यूनियन के सदस्य।                    -भास्कर - Dainik Bhaskar
पंजाब सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते नॉन टीचिंग इंप्लाइज यूनियन के सदस्य। -भास्कर
  • सरकारी कॉलेजों के कर्मियों की तर्ज पर छठे पे कमीशन की रिपोर्ट लागू करने की मांग

नॉन टीचिंग इंप्लाइज यूनियन द्वारा डीएम कालेज में मांगों को लेकर धरना-प्रदर्शन लगाकर राज्य सरकार के खिलाफ संघर्ष किया गया। नान टीचिंग स्टाफ की पिछले लंबे समय से लंबित पड़ी मांगों के संबंध में पंजाब सरकार के खिलाफ थी। धरने को संबोधित करते यूनिट के अध्यक्ष जवाहर लाल ने कहा कि पंजाब सरकार एडिड कालेजों के कर्मचारियों की मांगों की और कोई ध्यान नहीं दे रही।

यूनियन की मांगों में 1 दिसंबर 2011 से संशोधित किए गए ग्रेड पे, 1 अगस्त 2009 से बढ़ी हुई दर से मकान भत्ता, मेडिकल भत्ता लागू करना, 4 सितंबर 2014 स्टैप अप इंक्रीमेंट लागू करना, एडिड कालेजों में काम कर रहे टीचिंग स्टाफ को मकान भत्ता, मेडिकल भत्ता पहले से ही बढ़ी हुई दर से मिल रहा है तथा पंजाब सरकार द्वारा नान टीचिंग कर्मचारियों का मकान भत्ता, मैडीकल भत्ता पंजाब सरकार द्वारा बंद कर दिया गया।

यूनियन की मांग है कि उसको दोबारा शुरू करना, सरकारी कॉलेजों के कर्मचारियों की तर्ज पर छठे पे कमीशन को लागू करना आदि शामिल हैं। इस मौके प्राइवेट कालेज नान टीचिंग इंप्लाइज यूनियन पंजाब के सीनियर उपाध्यक्ष राजेन्द्र कुमार, रमिंदर शर्मा, दिनेश कुमार मौर्य, जगजीवन सिंह, शंकर कुमार गौतम उपस्थित थे।

खबरें और भी हैं...